Hamara Kasba I Hindi News I Bundelkhand News

फिर बढ़ रहा संक्रमण: दिल्ली में कोरोना से सात दिनों में 48 मरीजों की मौत, तीसरी लहर के बाद सबसे बड़ा आंकड़ा

ByNews Desk

Aug 14, 2022


दिल्ली में कोरोना से संक्रमित हो रहे लोगों के साथ दम तोड़ रहे मरीजों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। पिछले सात दिनों में कोरोना से चार दर्जन मरीजों ने दम तोड़ दिया है। इसमें ज्यादातर मरीज कोरोना के अलावा दूसरी अन्य बीमारी से पीड़ित थे। सात दिन में मौत का यह आंकड़ा कोविड-19 की तीसरी लहर के बाद सबसे ज्यादा है। 

दिल्ली में इससे पहले 27 फरवरी तक कोविड की तीसरी लहर के तहत मरीजों ने सबसे ज्यादा मरीजों ने दम तोड़ा था। 27 फरवरी के बाद से दिल्ली में कोरोना से मौत के आंकड़े में तेजी से गिरावट हुई। साथ ही कोरोना से संक्रमित हो रहे मरीजों का आंकड़ा भी घटता गया। 

दिल्ली में 28 फरवरी से छह अगस्त तक दिल्ली में अधिकतर दिन कोरोना से मौत का आंकड़ा शून्य ही रहा। हालांकि छह अगस्त के बाद एक बार फिर तेजी से मौत के मामले बढ़ने लगे। दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग के अनुसार दिल्ली में 25 दिसंबर 2021 से 27 फरवरी 2022 तक कोरोना की तीसरी लहर का असर देखा गया। इस दौरान करीब 1018 मरीजों ने कोरोना के कारण दम तोड़ दिया। 

वहीं 28 अगस्त को साल 2022 में पहली बार कोरोना से किसी मरीज की मौत नहीं हुई। विभाग के अनुसार साल 2022 में 27 फरवरी से छह अगस्त तक कोरोना का कहर काफी कम रहा। इस सवा पांच माह के दौरान केवल 206 मरीजों की मौत कोरोना से हुई। दिल्ली में इस दौरान एक दिन में मौत का आंकड़ा दो से तीन से अधिक नहीं रहा। जबकि अधिकतर दिन आंकड़ा जीरो ही रहा। 

 

गंभीर मरीज दूसरे बीमारी से पीड़ित 

लोकनायक अस्पताल के चिकित्सा निदेशक डॉ. सुरेश कुमार ने कहा कि कोरोना से जान गंवाने वाले ज्यादातर गंभीर मरीज हैं, जिन्हें कोरोना के अलावा दूसरे अन्य गंभीर बीमारी भी हैं। इसमें कैंसर, टीबी व अन्य बीमारी शामिल हैं। वहीं ऐसे मरीज भी हैं जिन्हें डायलिसिस करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि लोकनायक अस्पताल में अभी छह गंभीर मरीज भर्ती हैं, जिन्हें वेंटिलेटर पर रखा  गया है। उन्होंने कहा कि इन दिनों कोरोना से मरीज संक्रमित जरूर हो रहे हैं, लेकिन इस बार मृत्युदर काफी कम है। कोरोना से बचने के लिए कोविड नियमों का पालन सख्ती से करना चाहिए।



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.