ई केवाईसी न कराने पर 76819 किसानों की रुक जाएगी 12 वीं किश्त


76819 farmers will not get installment

ख़बर सुनें

उरई। पीएम सम्मान निधि के लिए ई-केवाईसी कराने की तिथि बढ़ा दी गई है। पहले अंतिम तिथि 31 जुलाई थी पर अब इसे बढ़ाकर 25 अगस्त कर दिया गया है। उप कृषि निदेशक एसके उत्तम ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत ई-केवाईसी कराने के लिए 31 जुलाई तक कैंप लगाए गए थे। जिले में कुल 2,17,049 किसानों में से 76,819 कृषकों की ई-केवाईसी अब भी नहीं हो सकी है। प्रदेश में 66 प्रतिशत लाभार्थियों ने ही ई-केवाईसी कराई है। केंद्र सरकार के निर्देशानुसार ई केवाईसी न कराने वाले लाभार्थियों को 12वीं किश्त का भुगतान नहीं हो सकेगा।
उन्होंने बताया कि जिले में कुल 2,17,049 किसानों में से 76,819 कृषकों की ई-केवाईसी नहीं हो सकी है। इसमें डकोर ब्लाक में 14,875, जालौन में 7,404, कदौरा में 12,247, कोंच में 7,540, कुठौंद में 6,103, माधौगढ़ में 6,438, महेबा में 7,660, नदीगांव में 9,077, रामपुरा में 5,475 किसानों की ई- केवाईसी नहीं हुई है। इसके लिए 23 अगस्त तक डोर टू डोर ग्रामवार अभियान चलाया जाएगा। ई-केवाईसी का हर हाल में 25 अगस्त तक पूरा कराना सुनिश्चित कराए। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही नहीं बरती जाए।

उरई। पीएम सम्मान निधि के लिए ई-केवाईसी कराने की तिथि बढ़ा दी गई है। पहले अंतिम तिथि 31 जुलाई थी पर अब इसे बढ़ाकर 25 अगस्त कर दिया गया है। उप कृषि निदेशक एसके उत्तम ने प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के अंतर्गत ई-केवाईसी कराने के लिए 31 जुलाई तक कैंप लगाए गए थे। जिले में कुल 2,17,049 किसानों में से 76,819 कृषकों की ई-केवाईसी अब भी नहीं हो सकी है। प्रदेश में 66 प्रतिशत लाभार्थियों ने ही ई-केवाईसी कराई है। केंद्र सरकार के निर्देशानुसार ई केवाईसी न कराने वाले लाभार्थियों को 12वीं किश्त का भुगतान नहीं हो सकेगा।

उन्होंने बताया कि जिले में कुल 2,17,049 किसानों में से 76,819 कृषकों की ई-केवाईसी नहीं हो सकी है। इसमें डकोर ब्लाक में 14,875, जालौन में 7,404, कदौरा में 12,247, कोंच में 7,540, कुठौंद में 6,103, माधौगढ़ में 6,438, महेबा में 7,660, नदीगांव में 9,077, रामपुरा में 5,475 किसानों की ई- केवाईसी नहीं हुई है। इसके लिए 23 अगस्त तक डोर टू डोर ग्रामवार अभियान चलाया जाएगा। ई-केवाईसी का हर हाल में 25 अगस्त तक पूरा कराना सुनिश्चित कराए। इसमें किसी प्रकार की लापरवाही नहीं बरती जाए।



Source link