श्रीलंका के बाद चीन के निशाने पर अब नेपाल, 15 अरब रुपये का अनुदान देने का किया वादा


ख़बर सुनें

चीन ने नेपाल को हिमालयी राष्ट्र में विभिन्न परियोजनाओं में निवेश करने के लिए 15 अरब रुपये की अनुदान सहायता देने का वादा किया है। इससे पहले नेपाल के विदेश मंत्री नारायण खडका ने अपने चीनी समकक्ष वांग यी के साथ चीन और नेपाल के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करने के लिए व्यापक बातचीत की। जिसके बाद चीन को ओर से अनुदान देने का फैसला लिया गया। 

बता दें कि नेपाल के विदेश मंत्री खडका अपने चीनी कक्ष वांग यी के आमंत्रण पर चीन के आधिकारिक दौरे पर हैं। दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात पूर्वी चीन के क्विंगदाओ शहर में बुधवार को हुई। इस बातचीत के दौरान दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने नेपाल-चीन संबंधों के समग्र पहलुओं का जायजा लिया और व्यापार, संपर्क, निवेश, स्वास्थ्य, पर्यटन, गरीबी उन्मूलन, कृषि, आपदा प्रबंधन जैसे मुद्दों पर चर्चा की।

बता दें कि कुछ वर्ष पहले तक चीन श्रीलंका पर भी इसी तरह की मेहबानी दिखा रहा था। उसने श्रीलंका को बड़े पैमाने पर कर्ज दिया जिसे नहीं चुका पाने के कारण श्रीलंका की हालत खस्ता हो गई। आज के दिन श्रीलंका अभूतपूर्व आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा है। ऐसे में चीन की ओर से नेपाल पर की जा रही मेहरबानी को संदेह के नजर से देखा जाना लाजिमी है। 

विस्तार

चीन ने नेपाल को हिमालयी राष्ट्र में विभिन्न परियोजनाओं में निवेश करने के लिए 15 अरब रुपये की अनुदान सहायता देने का वादा किया है। इससे पहले नेपाल के विदेश मंत्री नारायण खडका ने अपने चीनी समकक्ष वांग यी के साथ चीन और नेपाल के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत करने के लिए व्यापक बातचीत की। जिसके बाद चीन को ओर से अनुदान देने का फैसला लिया गया। 

बता दें कि नेपाल के विदेश मंत्री खडका अपने चीनी कक्ष वांग यी के आमंत्रण पर चीन के आधिकारिक दौरे पर हैं। दोनों नेताओं के बीच यह मुलाकात पूर्वी चीन के क्विंगदाओ शहर में बुधवार को हुई। इस बातचीत के दौरान दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने नेपाल-चीन संबंधों के समग्र पहलुओं का जायजा लिया और व्यापार, संपर्क, निवेश, स्वास्थ्य, पर्यटन, गरीबी उन्मूलन, कृषि, आपदा प्रबंधन जैसे मुद्दों पर चर्चा की।

बता दें कि कुछ वर्ष पहले तक चीन श्रीलंका पर भी इसी तरह की मेहबानी दिखा रहा था। उसने श्रीलंका को बड़े पैमाने पर कर्ज दिया जिसे नहीं चुका पाने के कारण श्रीलंका की हालत खस्ता हो गई। आज के दिन श्रीलंका अभूतपूर्व आर्थिक संकट के दौर से गुजर रहा है। ऐसे में चीन की ओर से नेपाल पर की जा रही मेहरबानी को संदेह के नजर से देखा जाना लाजिमी है। 



Source link