बैंकों के लोन 14.5% बढ़े, आरबीआई के आंकड़ों से खुलासा


ख़बर सुनें

बैकों के लोन बीते साल की तुलना में बीते 29 जुलाई तक 14.5% की बढ़ोतरी दर्ज की गई। रिजर्व बैंक की ओर से बुधवार को जारी आंकड़ों में यह बात सामने आई। 

29 जुलाई तक बैंकों के कुल बकाया लोन 123.69 ट्रिलियन है, पिछले साल यह राशि 108 ट्रिलियन थी। इस अवधि तक बैंक डिपॉजिट 169.72 ट्रिलियन रहा जो कि पिछले साल 155.49 ट्रिलियन रहा था। इसमें 9.1% प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई। आरबीआई की ओर से कहा गया है कि ये आंकड़े अस्थायी (Provisional) हैं।

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले सप्ताह नई मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुए कहा था कि सावधि जमा दरें बढ़ रही हैं। ऋण मांग में निरंतर उछाल को देखते हुए बैंकों के पास धन की उपलब्धता के लिए सुनिश्चित होनी चाहिए।

बता दें कि आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले हफ्ते रेपो रेट में 50 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी करते हुए इसे 5.40% कर दिया है। पहले यह 4.9% था। रिजर्व बैंक के मुताबिक उसने देश में बढ़ रही महंगाई से निपटने के लिए रेपो रेट बढ़ाने का फैसला लिया है।

विस्तार

बैकों के लोन बीते साल की तुलना में बीते 29 जुलाई तक 14.5% की बढ़ोतरी दर्ज की गई। रिजर्व बैंक की ओर से बुधवार को जारी आंकड़ों में यह बात सामने आई। 

29 जुलाई तक बैंकों के कुल बकाया लोन 123.69 ट्रिलियन है, पिछले साल यह राशि 108 ट्रिलियन थी। इस अवधि तक बैंक डिपॉजिट 169.72 ट्रिलियन रहा जो कि पिछले साल 155.49 ट्रिलियन रहा था। इसमें 9.1% प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई। आरबीआई की ओर से कहा गया है कि ये आंकड़े अस्थायी (Provisional) हैं।

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले सप्ताह नई मौद्रिक नीति की घोषणा करते हुए कहा था कि सावधि जमा दरें बढ़ रही हैं। ऋण मांग में निरंतर उछाल को देखते हुए बैंकों के पास धन की उपलब्धता के लिए सुनिश्चित होनी चाहिए।

बता दें कि आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले हफ्ते रेपो रेट में 50 बेसिस प्वाइंट की बढ़ोतरी करते हुए इसे 5.40% कर दिया है। पहले यह 4.9% था। रिजर्व बैंक के मुताबिक उसने देश में बढ़ रही महंगाई से निपटने के लिए रेपो रेट बढ़ाने का फैसला लिया है।



Source link