अब चीन व रूस ने की भारत की सराहना, संयुक्त राष्ट्र में बड़ी भूमिका का किया समर्थन


सार

ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के समूह ब्रिक्स के विदेश मंत्रियों की बैठक के बाद जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई। संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र के मौके पर ब्रिक्स देशों के विदेश मंत्रियों ने गुरुवार को न्यूयॉर्क एक बैठक की।

ब्रिक्स बैठक में एस जयशंकर

ब्रिक्स बैठक में एस जयशंकर
– फोटो : ANI (file photo)

ख़बर सुनें

विस्तार

चीन और रूस ने अंतरराष्ट्रीय मामलों में ब्राजील, भारत और दक्षिण अफ्रीका की स्थिति व भूमिका के महत्व को एक बार फिर रेखांकित किया। साथ ही संयुक्त राष्ट्र में उनकी बड़ी भूमिका निभाने की आकांक्षा का समर्थन किया।

ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका के समूह ब्रिक्स के विदेश मंत्रियों की बैठक के बाद जारी एक बयान में यह जानकारी दी गई। संयुक्त राष्ट्र महासभा के सत्र के मौके पर ब्रिक्स देशों के विदेश मंत्रियों ने गुरुवार को न्यूयॉर्क एक बैठक की। ब्राजील के विदेश मंत्री कार्लोस अल्बर्टो फ्रेंको फ्रैंक, रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव, विदेश मंत्री एस जयशंकर, चीन के विदेश मंत्री वांग यी और दक्षिण अफ्रीका गणराज्य की अंतरराष्ट्रीय संबंधों व सहयोग मंत्री नलेदी पैंडर इस बैठक में शामिल हुईं। ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका ब्रिक्स के हिस्सा हैं,। ये देश दुनिया की 36 अरब से अधिक आबादी का प्रतिनिधित्व करते हैं। 

बैठक के बाद जारी बयान के अनुसार ब्रिक्स के मंत्रियों ने 2021-2022 और 2022-2023 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) के सदस्यों के तौर पर भारत और ब्राजील की भूमिका की सराहना की। बयान में कहा गया कि यूएनएससी में ब्रिक्स के चार सदस्य देशों की मौजूदगी अंतरराष्ट्रीय शांति व सुरक्षा के मुद्दे पर और आपसी हित के क्षेत्रों में निरंतर सहयोग को लेकर जारी बातचीत को बढ़ाने का अवसर प्रदान करती है।

मंत्रियों ने 2005 के विश्व शिखर सम्मेलन के नतीजों को रेखांकित करते हुए संयुक्त राष्ट्र में व्यापक सुधार की आवश्यकता की बात दोहराई, ताकि इसका विस्तार किया जा सके। इसे अधिक प्रभावी व कुशल बनाया जा सके और इसमें विकासशील देशों का प्रतिनिधित्व बढ़ाया जा सके।



Source link