Hamara Kasba I Hindi News I Bundelkhand News

प्रणय ने दो बार के पूर्व विश्व विजेता मोमोटा को हराया, अब लक्ष्य सेन से होगा मुकाबला

ByNews Desk

Aug 25, 2022


ख़बर सुनें

दिग्गजों को हराने के चलते जाइंट किलर के नाम से मशहूर हो चुके एचएस प्रणय ने इस बार विश्व चैंपियनशिप में बुधवार को दो बार के पूर्व विश्व विजेता जापान के केंटो मोमोटा को हराकर एक और बड़ा उलटफेर कर दिया। थॉमस कप में भारत की जीत के हीरो प्रणय ने स्थानीय दर्शकों के भारी समर्थन के बीच मोमोटा को सीधे गेमों में 21-17, 21-16 से पराजित किया।

आठ मैचों में प्रणय की मोमोटा पर यह पहली जीत रही। इससे पहले वह मोमोटा के खिलाफ सिर्फ एक गेम ही जीतने में सफल रहे थे। अब वह गुरुवार को तीसरे दौर में राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता लक्ष्य सेन से भिड़ेंगे। लक्ष्य ने स्पेन के लुइस पेनाल्वर को 72 मिनट में 21-17, 21-10 से पराजित किया। हालांकि गत उपविजेता किदांबी श्रीकांत को चीन के झाउ जुन पेंग के हाथों दूसरे दौर में 9-21, 17-21 से हार का सामना करना पड़ा।

खिताब का दावेदार थे मोमोटा
दूसरी वरीय मोमोटा को प्रणय के खिलाफ फेवरेट माना जा रहा था लेकिन भारतीय शटलर ने उनके खिलाफ बेहतरीन आगाज कर शुरुआत से ही बढ़त बना ली। यह प्रणय के आक्रामक खेल का नतीजा था कि मोमोटा उनके आगे अपना वास्तिवक खेल नहीं खेल पाए। हालांकि, मोमोटा कार दुर्घटना से उबरने के बाद लगातार संघर्ष कर रहे हैं और पहले जैसी फॉर्म नहीं हासिल कर पा रहे हैं। बावजूद इसके उनके घर में विश्व चैंपियनशिप होने के कारण यहां उन्हें खिताब का दावेदार माना जा रहा था लेकिन प्रणय ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया।

श्रीकांत नहीं कर पाए वापसी
विश्व नंबर 32 झाओ ने श्रीकांत के खिलाफ 12 मिनट में ही पहला गेम जीत लिया। हालांकि दूसरे गेम में श्रीकांत ने वापसी की कोशिश की। एक समय वह 16-14 की बढ़त पर थे। इसके बाद उन्होंने कई गलतियां कीं और मैच हार गए। नौवीं वरीय लक्ष्य ने पहले गेम में 3-4 से पिछड़ने के बाद 13-7 की बढ़त बना ली। इसके बाद उन्होंने पूरे मैच में कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। पिछली विश्व चैंपियनशिप में कांस्य जीतने वाले लक्ष्य ने दूसरे गेम में भी दबदबा बनाकर रखा और आसानी से मैच अपनी झोली में डाल लिया।

अर्जुन-ध्रुव की जोड़ी ने भी किया उलटफेर
इससे पहले युगल में भारत को खुशखबरी एमआर अर्जुन और ध्रुव कपिला की जोड़ी ने आठवीं वरीय डेनमार्क के किम एस्ट्रुप और एंडर्स स्कारुप रासमुसेन को 21-17, 21-16 से अप्रत्याशित रूप से हराकर तीसरे दौर में जगह बनाई। अंतिम 16 में दोनों सिंगापुर के ही यांग कोई टेरी और लोह कीन हीन से भिड़ेंगे। 

वहीं सात्विक साईराज रैंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी ने ग्वाटेमाला के सोलिस जोनाथन-एनिबाल मार्रोक्विन को 21-8, 21-10 से पराजित किया। दोनों का अगले दौर में डेनमार्क के जेपे बे और लेसी मालहीड से मुकाबला होगा। अश्वनी पोनप्पा और एन सिक्की रेड्डी को सर्वोच्च वरीय चीनी जोड़ी चेन क्विंग चेन और जिया यी फेन ने 15-21, 10-21 से हराया। पूजा डांडू और संजना संतोष की जोड़ी को भी पराजय मिली।

विस्तार

दिग्गजों को हराने के चलते जाइंट किलर के नाम से मशहूर हो चुके एचएस प्रणय ने इस बार विश्व चैंपियनशिप में बुधवार को दो बार के पूर्व विश्व विजेता जापान के केंटो मोमोटा को हराकर एक और बड़ा उलटफेर कर दिया। थॉमस कप में भारत की जीत के हीरो प्रणय ने स्थानीय दर्शकों के भारी समर्थन के बीच मोमोटा को सीधे गेमों में 21-17, 21-16 से पराजित किया।

आठ मैचों में प्रणय की मोमोटा पर यह पहली जीत रही। इससे पहले वह मोमोटा के खिलाफ सिर्फ एक गेम ही जीतने में सफल रहे थे। अब वह गुरुवार को तीसरे दौर में राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता लक्ष्य सेन से भिड़ेंगे। लक्ष्य ने स्पेन के लुइस पेनाल्वर को 72 मिनट में 21-17, 21-10 से पराजित किया। हालांकि गत उपविजेता किदांबी श्रीकांत को चीन के झाउ जुन पेंग के हाथों दूसरे दौर में 9-21, 17-21 से हार का सामना करना पड़ा।

खिताब का दावेदार थे मोमोटा

दूसरी वरीय मोमोटा को प्रणय के खिलाफ फेवरेट माना जा रहा था लेकिन भारतीय शटलर ने उनके खिलाफ बेहतरीन आगाज कर शुरुआत से ही बढ़त बना ली। यह प्रणय के आक्रामक खेल का नतीजा था कि मोमोटा उनके आगे अपना वास्तिवक खेल नहीं खेल पाए। हालांकि, मोमोटा कार दुर्घटना से उबरने के बाद लगातार संघर्ष कर रहे हैं और पहले जैसी फॉर्म नहीं हासिल कर पा रहे हैं। बावजूद इसके उनके घर में विश्व चैंपियनशिप होने के कारण यहां उन्हें खिताब का दावेदार माना जा रहा था लेकिन प्रणय ने उनकी उम्मीदों पर पानी फेर दिया।

श्रीकांत नहीं कर पाए वापसी

विश्व नंबर 32 झाओ ने श्रीकांत के खिलाफ 12 मिनट में ही पहला गेम जीत लिया। हालांकि दूसरे गेम में श्रीकांत ने वापसी की कोशिश की। एक समय वह 16-14 की बढ़त पर थे। इसके बाद उन्होंने कई गलतियां कीं और मैच हार गए। नौवीं वरीय लक्ष्य ने पहले गेम में 3-4 से पिछड़ने के बाद 13-7 की बढ़त बना ली। इसके बाद उन्होंने पूरे मैच में कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। पिछली विश्व चैंपियनशिप में कांस्य जीतने वाले लक्ष्य ने दूसरे गेम में भी दबदबा बनाकर रखा और आसानी से मैच अपनी झोली में डाल लिया।

अर्जुन-ध्रुव की जोड़ी ने भी किया उलटफेर

इससे पहले युगल में भारत को खुशखबरी एमआर अर्जुन और ध्रुव कपिला की जोड़ी ने आठवीं वरीय डेनमार्क के किम एस्ट्रुप और एंडर्स स्कारुप रासमुसेन को 21-17, 21-16 से अप्रत्याशित रूप से हराकर तीसरे दौर में जगह बनाई। अंतिम 16 में दोनों सिंगापुर के ही यांग कोई टेरी और लोह कीन हीन से भिड़ेंगे। 

वहीं सात्विक साईराज रैंकीरेड्डी और चिराग शेट्टी की जोड़ी ने ग्वाटेमाला के सोलिस जोनाथन-एनिबाल मार्रोक्विन को 21-8, 21-10 से पराजित किया। दोनों का अगले दौर में डेनमार्क के जेपे बे और लेसी मालहीड से मुकाबला होगा। अश्वनी पोनप्पा और एन सिक्की रेड्डी को सर्वोच्च वरीय चीनी जोड़ी चेन क्विंग चेन और जिया यी फेन ने 15-21, 10-21 से हराया। पूजा डांडू और संजना संतोष की जोड़ी को भी पराजय मिली।



Source link