अमेरिकी सहयोगियों को चीन की चेतावनी, ताइवान के बाद अब कोरिया से लगते समुद्र में करेगा युद्धाभ्यास


ख़बर सुनें

अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी के ताइवान दौरे के बाद चीन भड़का हुआ है। उसने बीते दिनों में ताइवान से लगते जलडमरूमध्य में युद्धाभ्यास जारी रखा है। इस बीच ड्रैगन ने कहा है कि उसने अब यलो और बोहई समुद्र में भी सैन्य युद्धाभ्यास शुरू कर दिया है। इस बीच चीन के सैन्य विश्लेषक ने कहा है कि पीएलए ताइवान के पास सैन्य अभ्यास जारी रखेगा। 

गौरतलब है कि ताइवान जलडमरूमध्य में चीन का युद्धाभ्यास रविवार तक खत्म होना था। हालांकि, न तो चीन और न ही ताइवान ने इनके खत्म होने की बात कही। इसी बीच चीनी सेना की तरफ से दो और समुद्रों में युद्धाभ्यास की बात कही गई है। जहां यलो सी चीन और कोरियाई प्रायाद्वीप के बीच है, वहीं बोहई सागर भी यलो सी का अगला हिस्सा है। इसके अलावा ताइवान के आसपास भी चीन नियमित अंतराल पर सैन्य युद्धाभ्यास जारी रखेगा। यानी ड्रैगन की ओर से अमेरिकी सहयोगियों को धमकी का दौर आगे भी जारी रहेगा। 

बताया गया है कि ताइवान के आसपास युद्धाभ्यास के दौरान चीन ने कई बैलिस्टिक मिसाइलों के टेस्ट लॉन्च भी किए। इनमें से कई मिसाइलें ताइवान की राजधानी ताइपे के ऊपर से गुजरीं। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने कहा कि उसने इस युद्धाभ्यास के दौरान लॉन्ग रेंज मिसाइल और जमीन पर हमलों की टेस्टिंग की। इसके अलावा चीन ने इस दौरान अमेरिकी अफसरों की तरफ से किए गए फोन का भी जवाब नहीं दिया। विश्लेषकों ने चीन की इस हरकत की निंदा की और कहा कि उसकी एक गलत हरकत दुनिया को युद्ध की आग में झोंक सकती थी। 

दूसरी तरफ ताइवान ने भी चीन के इन युद्धाभ्यासों का अपनी तरह से जवाब दिया। ताइवान के आधिकारिक न्यूज आउटलेट सेंट्रल न्यूज एजेंसी (सीएनए) ने कहा कि ताइवानी सेना मंगलवार को दक्षिणी पिंगतुंग काउंटी में तोपों की फायरिंग की लाइव ड्रिल करेगी। इसके अलावा ताइपे के नेताओं ने चीन की हरकतों की निंदा की है। ताइवानी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसने चीनी एयरफोर्स के 66 विमानों और 14 युद्धपोतों की गतिविधियां ताइवानी जलडमरूमध्य में दर्ज कीं।

विस्तार

अमेरिकी संसद की स्पीकर नैंसी पेलोसी के ताइवान दौरे के बाद चीन भड़का हुआ है। उसने बीते दिनों में ताइवान से लगते जलडमरूमध्य में युद्धाभ्यास जारी रखा है। इस बीच ड्रैगन ने कहा है कि उसने अब यलो और बोहई समुद्र में भी सैन्य युद्धाभ्यास शुरू कर दिया है। इस बीच चीन के सैन्य विश्लेषक ने कहा है कि पीएलए ताइवान के पास सैन्य अभ्यास जारी रखेगा। 

गौरतलब है कि ताइवान जलडमरूमध्य में चीन का युद्धाभ्यास रविवार तक खत्म होना था। हालांकि, न तो चीन और न ही ताइवान ने इनके खत्म होने की बात कही। इसी बीच चीनी सेना की तरफ से दो और समुद्रों में युद्धाभ्यास की बात कही गई है। जहां यलो सी चीन और कोरियाई प्रायाद्वीप के बीच है, वहीं बोहई सागर भी यलो सी का अगला हिस्सा है। इसके अलावा ताइवान के आसपास भी चीन नियमित अंतराल पर सैन्य युद्धाभ्यास जारी रखेगा। यानी ड्रैगन की ओर से अमेरिकी सहयोगियों को धमकी का दौर आगे भी जारी रहेगा। 

बताया गया है कि ताइवान के आसपास युद्धाभ्यास के दौरान चीन ने कई बैलिस्टिक मिसाइलों के टेस्ट लॉन्च भी किए। इनमें से कई मिसाइलें ताइवान की राजधानी ताइपे के ऊपर से गुजरीं। चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी ने कहा कि उसने इस युद्धाभ्यास के दौरान लॉन्ग रेंज मिसाइल और जमीन पर हमलों की टेस्टिंग की। इसके अलावा चीन ने इस दौरान अमेरिकी अफसरों की तरफ से किए गए फोन का भी जवाब नहीं दिया। विश्लेषकों ने चीन की इस हरकत की निंदा की और कहा कि उसकी एक गलत हरकत दुनिया को युद्ध की आग में झोंक सकती थी। 

दूसरी तरफ ताइवान ने भी चीन के इन युद्धाभ्यासों का अपनी तरह से जवाब दिया। ताइवान के आधिकारिक न्यूज आउटलेट सेंट्रल न्यूज एजेंसी (सीएनए) ने कहा कि ताइवानी सेना मंगलवार को दक्षिणी पिंगतुंग काउंटी में तोपों की फायरिंग की लाइव ड्रिल करेगी। इसके अलावा ताइपे के नेताओं ने चीन की हरकतों की निंदा की है। ताइवानी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसने चीनी एयरफोर्स के 66 विमानों और 14 युद्धपोतों की गतिविधियां ताइवानी जलडमरूमध्य में दर्ज कीं।



Source link