Hamara Kasba I Hindi News I Bundelkhand News

चीनी-कनाडाई टाइकून जिओ जियानहुआ को 13 साल जेल की सजा, शंघाई कोर्ट ने सुनाया फैसला

ByNews Desk

Aug 19, 2022


ख़बर सुनें

शंघाई फर्स्ट इंटरमीडिएट कोर्ट के फैसलों के अनुसार, जिओ के टुमॉरो होल्डिंग समूह पर भी 55.03 बिलियन युआन (8.09 बिलियन अमरीकी डॉलर) का जुर्माना लगाया गया है। अदालत ने कहा कि जिओ एंड टुमॉरो ने ‘वित्तीय प्रबंधन आदेश का गंभीर उल्लंघन किया’ और ‘राज्य की वित्तीय सुरक्षा को चोट पहुंचाई’।

बता दें कि हांगकांग में टाइकून के लापता होने के पांच साल से अधिक समय बाद चीन ने औपचारिक रूप से जिओ पर मुकदमा चलाया।

चीन के मुताबिक जिओ के लापता होने से हांगकांग के कुलीन व्यापारिक समुदाय को झटका लगा। उनके इस वहां से लापता होने का कदम एक संकेत की तरह था जिसकी इस रूप में व्याख्या की गई कि यह  शहर मुख्य भूमि के सुरक्षा तंत्र की पहुंच से बाहर है।

विस्तार

शंघाई फर्स्ट इंटरमीडिएट कोर्ट के फैसलों के अनुसार, जिओ के टुमॉरो होल्डिंग समूह पर भी 55.03 बिलियन युआन (8.09 बिलियन अमरीकी डॉलर) का जुर्माना लगाया गया है। अदालत ने कहा कि जिओ एंड टुमॉरो ने ‘वित्तीय प्रबंधन आदेश का गंभीर उल्लंघन किया’ और ‘राज्य की वित्तीय सुरक्षा को चोट पहुंचाई’।

बता दें कि हांगकांग में टाइकून के लापता होने के पांच साल से अधिक समय बाद चीन ने औपचारिक रूप से जिओ पर मुकदमा चलाया।

चीन के मुताबिक जिओ के लापता होने से हांगकांग के कुलीन व्यापारिक समुदाय को झटका लगा। उनके इस वहां से लापता होने का कदम एक संकेत की तरह था जिसकी इस रूप में व्याख्या की गई कि यह  शहर मुख्य भूमि के सुरक्षा तंत्र की पहुंच से बाहर है।



Source link