स्वतंत्रता दिवस से पहले हथियारों की खेप बरामद: दिल्ली-ncr समेत पंजाब में करते थे सप्लाई, दो तस्कर गिरफ्तार


ख़बर सुनें

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने स्वतंत्रता दिवस से पहले हथियारों की खेप पकड़ी है। इसकी सप्लाई दिल्ली-एनसीआर समेत पंजाब के गैंगस्टर को होनी थी। इसके साथ ही पंजाब के दो अवैध हथियार तस्करों को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से 15 अवैध सेमी-ऑटोमेटिक पिस्टल, हथियारों की तस्करी में इस्तेमाल किए जाने वाले मोबाइल व सिम कार्ड बरामद किए गए हैं।

स्पेशल सेल अधिकारियों के अनुसार, सेल की नार्थन रेंज में तैनात एसीपी वेदप्रकाश की टीम स्वतंत्रता दिवस को देखते हुए अवैध हथियार तस्करों पर नजर बनाए हुई थी। इस टीम को अवैध हथियार तस्करों के बारे में 6 अगस्त को सूचना मिली थी। सूचना के बाद एसीपी वेदप्रकाश की देखरेख में इंस्पेक्टर विवेकानंद पाठक व कुलदीप सिंह की टीम ने नजफगढ़ नहर रोड, केशोपुर दिल्ली के पास घेराबंदी की और गांव सरहाली खुर्द तरण-तारण, पंजाब निवासी गगनदीप सिंह (21) और गांव मैनी तरण-तारण निवासी आकाशदीप सिंह (22) को उस समय पकड़ लिया जब वह हथियारों की खेप पहुंचाने दिल्ली पहुंचे थे। ये हथियारों की खेप सेंधवा, मध्यप्रदेश के दीपक बरनाला और सोहन बरनाला से लेकर आए थे। इनके कब्जे से 15 सेमी-ऑटोमेटिक पिस्टल बरामद की गईं। 

गगनदीप ने बताया कि वह दो वर्षों से अवैध हथियारों की तस्करी कर रहा था। वह पंजाब में अवैध हथियार तस्कर विक्रमजीत सिंह के संपर्क में आया। ये विक्रमजीत सिंह के कहने पर अवैध हथियारों की तस्करी करने लगा। वह विक्रमजीत सिंह के कहने पर मध्यप्रदेश में दीपक बरनाला ओर सोहन बरनाला से अवैध हथियार लेकर आता था और दिल्ली व पंजाब के बदमाशों को सप्लाई करता था। करीब चार-पांच महीने पहले वह इंद्रसिंह डोगर के साथ दीपक व सोहन से पांच पिस्टल लेकर आया था। इंद्रसिंह डोगर को पंजाब पुलिस ने पकड़ लिया था। 
 

पांच पिस्टल दिल्ली में देनी थी
स्पेशल सेल डीसीपी रांजीव रंजन सिंह का कहना है कि गगनदीप ने पूछताछ में बताया कि वह विक्रमजीत सिंह के कहने पर हथियारों की ये खेप लेकर आया था। उसे पांच पिस्टल दिल्ली में रहने वाले फरदीन, पांच विक्रमजीत सिंह और पांच आकाशदीप सिंह के किसी जानकार को देनी थी। आकाशदीप सिंह ने बताया कि वह एक वर्ष से अवैध हथियारों की सप्लाई कर रहा था। वह गांव के ही गोरा सिंह के कहने पर गगनदीप के साथ हथियार लेने गया था। दीपक व सोहन अपने गांव के अवैध हथियार निर्माता से अवैध हथियार लेते हैं। दोनों आरोपियों ने बताया कि वह एक अवैध पिस्टल 12 से 15 हजार रुपये में लाते थे और आगे उसे 25 से 30 हजार रुपये में बेच देते थे। गगनदीप के पिता ट्रक ड्राइवर है। वह गरीबी के कारण अवैध हथियारों की तस्करी करने लगा था।  

विस्तार

दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने स्वतंत्रता दिवस से पहले हथियारों की खेप पकड़ी है। इसकी सप्लाई दिल्ली-एनसीआर समेत पंजाब के गैंगस्टर को होनी थी। इसके साथ ही पंजाब के दो अवैध हथियार तस्करों को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से 15 अवैध सेमी-ऑटोमेटिक पिस्टल, हथियारों की तस्करी में इस्तेमाल किए जाने वाले मोबाइल व सिम कार्ड बरामद किए गए हैं।

स्पेशल सेल अधिकारियों के अनुसार, सेल की नार्थन रेंज में तैनात एसीपी वेदप्रकाश की टीम स्वतंत्रता दिवस को देखते हुए अवैध हथियार तस्करों पर नजर बनाए हुई थी। इस टीम को अवैध हथियार तस्करों के बारे में 6 अगस्त को सूचना मिली थी। सूचना के बाद एसीपी वेदप्रकाश की देखरेख में इंस्पेक्टर विवेकानंद पाठक व कुलदीप सिंह की टीम ने नजफगढ़ नहर रोड, केशोपुर दिल्ली के पास घेराबंदी की और गांव सरहाली खुर्द तरण-तारण, पंजाब निवासी गगनदीप सिंह (21) और गांव मैनी तरण-तारण निवासी आकाशदीप सिंह (22) को उस समय पकड़ लिया जब वह हथियारों की खेप पहुंचाने दिल्ली पहुंचे थे। ये हथियारों की खेप सेंधवा, मध्यप्रदेश के दीपक बरनाला और सोहन बरनाला से लेकर आए थे। इनके कब्जे से 15 सेमी-ऑटोमेटिक पिस्टल बरामद की गईं। 

गगनदीप ने बताया कि वह दो वर्षों से अवैध हथियारों की तस्करी कर रहा था। वह पंजाब में अवैध हथियार तस्कर विक्रमजीत सिंह के संपर्क में आया। ये विक्रमजीत सिंह के कहने पर अवैध हथियारों की तस्करी करने लगा। वह विक्रमजीत सिंह के कहने पर मध्यप्रदेश में दीपक बरनाला ओर सोहन बरनाला से अवैध हथियार लेकर आता था और दिल्ली व पंजाब के बदमाशों को सप्लाई करता था। करीब चार-पांच महीने पहले वह इंद्रसिंह डोगर के साथ दीपक व सोहन से पांच पिस्टल लेकर आया था। इंद्रसिंह डोगर को पंजाब पुलिस ने पकड़ लिया था। 

 



Source link