Hamara Kasba I Hindi News I Bundelkhand News

फसल वर्ष 2021-22 के दौरान रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन का अनुमान, गेहूं की पैदावार घटेगी

ByNews Desk

Aug 19, 2022


ख़बर सुनें

2021-22 के फसल वर्ष में भारत में गेहूं उत्पादन लगभग तीन प्रतिशत घटकर 106.84 मिलियन टन होने का अनुमान है, वहीं इस दौरान कुल खाद्यान्न उत्पादन 315.72 मिलियन टन के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच सकता है।

देश में इस साल गर्मी की लहर के कारण गेहूं के उत्पादन में गिरावट का अनुमान है। बता दें कि भीषण गर्मी के कारण पंजाब और हरियाणा जैसे उत्तर भारत के राज्यों में अनाज सूख गए हैं।

केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने फसल वर्ष 2021-22 के लिए चौथा अग्रिम अनुमान जारी करते हुए बुधवार को कहा कि इस फसल वर्ष के दौरान चावल, मक्का, चना, दलहन, सरसों, तिलहन और गन्ने का रिकॉर्ड उत्पादन होने का अनुमान है। बता दें कि फसल वर्ष 2021-22 जुलाई 2021 से जून 2022 तक था। 

मंत्रालय के अनुसार जून 2022 में समाप्त फसल वर्ष में देश का कुल खाद्यान्न उत्पादन रिकॉर्ड 315.72 मिलियन टन होने का अनुमान है। 

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि इतनी फसलों का रिकॉर्ड उत्पादन सरकार की किसान हितैषी नीतियों के साथ-साथ किसानों और वैज्ञानिकों की अथक मेहनत का नतीजा है।

विस्तार

2021-22 के फसल वर्ष में भारत में गेहूं उत्पादन लगभग तीन प्रतिशत घटकर 106.84 मिलियन टन होने का अनुमान है, वहीं इस दौरान कुल खाद्यान्न उत्पादन 315.72 मिलियन टन के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच सकता है।

देश में इस साल गर्मी की लहर के कारण गेहूं के उत्पादन में गिरावट का अनुमान है। बता दें कि भीषण गर्मी के कारण पंजाब और हरियाणा जैसे उत्तर भारत के राज्यों में अनाज सूख गए हैं।

केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने फसल वर्ष 2021-22 के लिए चौथा अग्रिम अनुमान जारी करते हुए बुधवार को कहा कि इस फसल वर्ष के दौरान चावल, मक्का, चना, दलहन, सरसों, तिलहन और गन्ने का रिकॉर्ड उत्पादन होने का अनुमान है। बता दें कि फसल वर्ष 2021-22 जुलाई 2021 से जून 2022 तक था। 

मंत्रालय के अनुसार जून 2022 में समाप्त फसल वर्ष में देश का कुल खाद्यान्न उत्पादन रिकॉर्ड 315.72 मिलियन टन होने का अनुमान है। 

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि इतनी फसलों का रिकॉर्ड उत्पादन सरकार की किसान हितैषी नीतियों के साथ-साथ किसानों और वैज्ञानिकों की अथक मेहनत का नतीजा है।



Source link