हाईवे पर मर रहे गोवंश, नोच रहे कुत्ते , प्रशासन बना अनजान


ख़बर सुनें

हमीरपुर। बुंदेलखंड में अन्ना गोवंश की समस्या विधानसभा चुनाव में मुद्दा बनी थी। दोबारा सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने छुट्टा गोवंशों को गोशालाओं में संरक्षित करने के आदेश दिए थे, किंतु जिले के अधिकारी इस आदेश पर अमल नहीं कर रहे हैं। उल्टे ज्यादातर गोशालाओं से गोवंशों को छुट्टा छोड़ दिया गया है। ये गोवंश फसलों को चट कर रहे हैं। बारिश के मौसम में सूखे स्थान की तलाश में हाईवे पर बैठते हैं। वाहनों की चपेट में आकर आए दिन उनकी मौत हो रही है। शव उठवाने पर भी प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है। जहां-तहां पड़े गोवंश के शवों को कुत्ते नोचते रहते हैं।
ग्राम पंचायत कुण्डौरा में रविवार की रात वाहन की चपेट में आकर हाईवे पर गोवंश की मौत हो गई। सोमवार दोपहर तक जिसे कुत्ते नोंचते दिखे। वहीं गोशाला में सन्नाटा पसरा मिला। गोशाला के बाहर एक गोवंश एक पखवारे बीमार पड़ा है जो उठ नहीं सकता। उसे आस-पास के लोग चारा दे देते हैं जिससे वह जीवत है। ग्रामीणों का कहना है कि यहां गोवंश को लेकर कोई इंतजाम नहीं है।
विकास भवन से चंद कदम की दूरी पर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के सामने हाइवे पर सोमवार सुबह किसी वाहन ने गोवंश को टक्कर मार दी जिससे उसकी मौत हो गई। स्थानीय महिला दुकानदार ने बताया कि विकास भवन में अधिकारी भी बैठते है लेकिन कोई उठाने नहीं आया है।
————————
क्या बोले ग्रामीण
-कुण्डौरा निवासी रज्जन ने बताया कि गाय करीब एक पखवारे से बीमार पड़ी है जो उठ नहीं सकती है। जिसका कोई इलाज नहीं हो रहा है। आस-पास के लोग उसे भूरा चारा डाल देते हैं। यहां गोवंश की बड़ी दुर्दशा है।
————————-
-कुण्डौरा निवासी जितेंद्र का कहना है यहां गोवंश को कोई ध्यान देने वाला नहीं हैं। रात में किसी वाहन की टक्कर से हाईवे पर टक्कर मार देने से गोवंश की मौत हो गई है अब उसे कुत्ते नोंच रहे हैं।
——————–
कुण्डौरा की गोशाला में 108 गोवंश संरक्षित हैं। गोवंश के मरने के बाद कुत्ते नोंचने की जानकारी नहीं हैं। जो गोवंश बीमार हैं, उनका इलाज कराया जाएगा।
डॉ. देवेंद्र सिंह, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी
——————————–

हमीरपुर। बुंदेलखंड में अन्ना गोवंश की समस्या विधानसभा चुनाव में मुद्दा बनी थी। दोबारा सरकार बनने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने छुट्टा गोवंशों को गोशालाओं में संरक्षित करने के आदेश दिए थे, किंतु जिले के अधिकारी इस आदेश पर अमल नहीं कर रहे हैं। उल्टे ज्यादातर गोशालाओं से गोवंशों को छुट्टा छोड़ दिया गया है। ये गोवंश फसलों को चट कर रहे हैं। बारिश के मौसम में सूखे स्थान की तलाश में हाईवे पर बैठते हैं। वाहनों की चपेट में आकर आए दिन उनकी मौत हो रही है। शव उठवाने पर भी प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है। जहां-तहां पड़े गोवंश के शवों को कुत्ते नोचते रहते हैं।

ग्राम पंचायत कुण्डौरा में रविवार की रात वाहन की चपेट में आकर हाईवे पर गोवंश की मौत हो गई। सोमवार दोपहर तक जिसे कुत्ते नोंचते दिखे। वहीं गोशाला में सन्नाटा पसरा मिला। गोशाला के बाहर एक गोवंश एक पखवारे बीमार पड़ा है जो उठ नहीं सकता। उसे आस-पास के लोग चारा दे देते हैं जिससे वह जीवत है। ग्रामीणों का कहना है कि यहां गोवंश को लेकर कोई इंतजाम नहीं है।

विकास भवन से चंद कदम की दूरी पर राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय के सामने हाइवे पर सोमवार सुबह किसी वाहन ने गोवंश को टक्कर मार दी जिससे उसकी मौत हो गई। स्थानीय महिला दुकानदार ने बताया कि विकास भवन में अधिकारी भी बैठते है लेकिन कोई उठाने नहीं आया है।

————————

क्या बोले ग्रामीण

-कुण्डौरा निवासी रज्जन ने बताया कि गाय करीब एक पखवारे से बीमार पड़ी है जो उठ नहीं सकती है। जिसका कोई इलाज नहीं हो रहा है। आस-पास के लोग उसे भूरा चारा डाल देते हैं। यहां गोवंश की बड़ी दुर्दशा है।

————————-

-कुण्डौरा निवासी जितेंद्र का कहना है यहां गोवंश को कोई ध्यान देने वाला नहीं हैं। रात में किसी वाहन की टक्कर से हाईवे पर टक्कर मार देने से गोवंश की मौत हो गई है अब उसे कुत्ते नोंच रहे हैं।

——————–

कुण्डौरा की गोशाला में 108 गोवंश संरक्षित हैं। गोवंश के मरने के बाद कुत्ते नोंचने की जानकारी नहीं हैं। जो गोवंश बीमार हैं, उनका इलाज कराया जाएगा।

डॉ. देवेंद्र सिंह, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी

——————————–



Source link