दिवाली तक एफटीए को पूरा करने में जुटे भारत और ब्रिटेन


ख़बर सुनें

भारत और ब्रिटेन मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) को दिवाली तक पूरा करने में जुटे हैं। पांचवें दौर की वार्ता के बाद ब्रिटेन के अंतरराष्ट्रीय व्यापार विभाग (डीआईटी) ने संयुक्त बयान में बताया कि 85 सत्रों में 15 नीतिगत मुद्दों पर चर्चा हो चुकी है। वार्ता का एक और दौर इस महीने के आखिर में ब्रिटेन में होने वाला है।

डीआईटी के मुताबिक, दोनों देशों के अधिकारी अक्तूबर, 2022 के अंत तक एक व्यापक और संतुलित एफटीए वार्ता पूरी कर मसौदा तैयार कर लेंगे। इससे पहले भारत के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल दिल्ली में आयोजित उद्यमी सम्मेलन में कहा था कि भारत और ब्रिटेन के बीच एफटीए के लिए बातचीत तेज गति से आगे बढ़ रही है।

2030 तक होगा दोगुना हो द्विपक्षीय व्यापार 
ग्रांट थार्नटन व सीआईआई की रिपोर्ट के मुताबिक भारत और ब्रिटेन के बीच द्विपक्षीय व्यापार मौजूदा स्तर से 2030 तक दोगुना होने की संभावना है। डीआईटी और भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) की साझेदारी में ग्रांट थार्नटन ने ब्रिटेन मीट्स इंडिया (बीएमआई) रिपोर्ट 2022 में बताया गया है कि दोनों देशों की कंपनियां एक-दूसरे की अर्थव्यवस्था को सहयोग दे रही हैं। 

विस्तार

भारत और ब्रिटेन मुक्त व्यापार समझौते (एफटीए) को दिवाली तक पूरा करने में जुटे हैं। पांचवें दौर की वार्ता के बाद ब्रिटेन के अंतरराष्ट्रीय व्यापार विभाग (डीआईटी) ने संयुक्त बयान में बताया कि 85 सत्रों में 15 नीतिगत मुद्दों पर चर्चा हो चुकी है। वार्ता का एक और दौर इस महीने के आखिर में ब्रिटेन में होने वाला है।

डीआईटी के मुताबिक, दोनों देशों के अधिकारी अक्तूबर, 2022 के अंत तक एक व्यापक और संतुलित एफटीए वार्ता पूरी कर मसौदा तैयार कर लेंगे। इससे पहले भारत के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल दिल्ली में आयोजित उद्यमी सम्मेलन में कहा था कि भारत और ब्रिटेन के बीच एफटीए के लिए बातचीत तेज गति से आगे बढ़ रही है।

2030 तक होगा दोगुना हो द्विपक्षीय व्यापार 

ग्रांट थार्नटन व सीआईआई की रिपोर्ट के मुताबिक भारत और ब्रिटेन के बीच द्विपक्षीय व्यापार मौजूदा स्तर से 2030 तक दोगुना होने की संभावना है। डीआईटी और भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) की साझेदारी में ग्रांट थार्नटन ने ब्रिटेन मीट्स इंडिया (बीएमआई) रिपोर्ट 2022 में बताया गया है कि दोनों देशों की कंपनियां एक-दूसरे की अर्थव्यवस्था को सहयोग दे रही हैं। 



Source link