चेन्नई सुपरकिंग्स और रवींद्र जडेजा में ब्रेक-अप तय, मई से फ्रेंचाइजी के संपर्क में नहीं


चेन्नई सुपरकिंग्स और स्टार ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा के बीच इन दिनों सबकुछ ठीक नहीं है। अगले कुछ महीनों के अंदर दोनों अलग-अलग हो सकते हैं। मई में आईपीएल खत्म होने के बाद से भारतीय ऑलराउंडर सीएसके प्रबंधन के साथ संपर्क में नहीं है। चेन्नई की टीम खिलाड़ियों को एक परिवार की तरह रखती है और साल भर उनके साथ संपर्क में रहती है, लेकिन नेशनल क्रिकेट एकेडमी (एनसीए) में रिहैबलिटेशन प्रक्रिया में लगे जडेजा ने फ्रेंचाइजी से दूरी बना रखी है। वह सीएसके के किसी भी अभियान में भाग नहीं ले रहे हैं।

जडेजा को आईपीएल के बीच में ही कप्तानी से हटा दिया गया था जब प्रबंधन को लगा कि नेतृत्व का बोझ उनके खेल को प्रभावित कर रहा है। जडेजा ने इसे अपमान के रूप में लिया। जडेजा चेन्नई में कप्तान के रूप में सफल होने के बाद भारतीय टीम की कप्तानी करने का सपना देख रहे थे। उनकी जगह धोनी को फिर से कप्तान बना दिया गया। कहा जा रहा है कि जडेजा इसी बात से नाराज हो गए थे।

जडेजा ने सोशल मीडिया पर चेन्नई के सारे पोस्ट हटाए

मई के मध्य में जब से उन्होंने मुंबई में टीम होटल छोड़ा है, तब से फ्रेंचाइजी उनके साथ मतभेदों को सुलझाने में असमर्थ रही है। इस बीच जडेजा ने चेन्नई सुपरकिंग्स से संबंधित सभी सोशल मीडिया पोस्ट हटा दिए। वह एकमात्र खिलाड़ी थे जो उस वीडियो का हिस्सा नहीं थे जिसे चेन्नई ने कप्तान धोनी को उनके जन्मदिन पर बधाई देने के लिए पोस्ट किया था।

अगले साल खेलेंगे धोनी

धोनी ने पहले ही कह दिया है कि वह अगला आईपीएल खेलेंगे और संभवत: टीम का नेतृत्व करेंगे। ऐसे में इस बात की बहुत कम संभावना है कि जडेजा वापस आने के लिए तैयार होंगे। जडेजा टीम से बाहर होना चाहते हैं। ऐसे में जब रिटेन करने की बारी आएगी तो फ्रेंचाइजी उन्हें बाहर कर सकती है।

37 दिन में ही जडेजा ने छोड़ी थी कप्तानी

जडेजा चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ 2012 में जुड़े थे। 10 सालों में उन्होंने टीम के साथ दो खिताब जीते। इस साल टूर्नामेंट शुरू होने से दो दिन पहले महेंद्र सिंह धोनी ने कप्तानी छोड़ने का एलान किया। रवींद्र जडेजा को अगला कप्तान बनाया गया। उन्होंने 37 दिन बाद ही अपने पद को छोड़ने का फैसला किया। धोनी को फिर से टीम की कमान संभालनी पड़ी।



Source link

Leave a Comment