महाराष्ट्र सरकार की जनता से अपील, कहा- सभी लोग कल सुबह 11 बजे राष्ट्रगान गाएं


ख़बर सुनें

महाराष्ट्र सरकार ने राज्य के लोगों से अपील की है कि वे स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के उत्सव के हिस्से के रूप में कल सुबह 11 बजे राष्ट्रगान गाएं। जानकारी के मुताबिक, राज्य भर में सुबह 11 बजे से 11:01 बजे के बीच राष्ट्रगान गाने को कहा गया है।

पिछले सप्ताह जारी एक सरकारी आदेश में कहा गया है कि सभी राज्य सरकार के विभागों, विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के लिए भागीदारी अनिवार्य है। इसके अलावा आम नागरिकों से भी इस अभियान में हिस्सा लेने की उम्मीद की जाती है।

आदेश में कहा गया है कि यह केंद्र सरकार के स्वराज महोत्सव का हिस्सा है। इसमें निजी प्रतिष्ठानों, व्यापारियों और यहां तक कि केंद्र सरकार के अंतर्गत आने वाले विभागों सहित अन्य सरकारी विभागों के भी भाग लेने की उम्मीद है। आदेश में कहा गया है कि छात्रों से खुले मैदान में राष्ट्रगान गाने के लिए इकट्ठा हो सकते हैं।

इससे पहले महाराष्ट्र के सांस्कृतिक मामलों के मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने को कहा था कि देश अमृत महोत्सव (स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ) मना रहा है और इसलिए राज्य सरकार के सभी अधिकारियों को अगले साल 26 जनवरी तक कार्यालयों में फोन कॉल लगाते समय नमस्ते के बजाय वंदे मातरम कहना होगा।

हालांकि, इसके अगले दिन ही उन्हें यू-टर्न लेना पड़ा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के अधिकारियों के लिए फोन कॉल उठाते समय वंदे मातरम कहना अनिवार्य नहीं है। फोन कॉल के दौरान राष्ट्रवाद को दर्शाने वाले किसी भी समान शब्द का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस मुद्दे पर विपक्षी दलों की आलोचना का सामना करने के बाद उनका यह बयान सामने आया।

विस्तार

महाराष्ट्र सरकार ने राज्य के लोगों से अपील की है कि वे स्वतंत्रता के 75 वर्ष पूरे होने के उत्सव के हिस्से के रूप में कल सुबह 11 बजे राष्ट्रगान गाएं। जानकारी के मुताबिक, राज्य भर में सुबह 11 बजे से 11:01 बजे के बीच राष्ट्रगान गाने को कहा गया है।

पिछले सप्ताह जारी एक सरकारी आदेश में कहा गया है कि सभी राज्य सरकार के विभागों, विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के लिए भागीदारी अनिवार्य है। इसके अलावा आम नागरिकों से भी इस अभियान में हिस्सा लेने की उम्मीद की जाती है।

आदेश में कहा गया है कि यह केंद्र सरकार के स्वराज महोत्सव का हिस्सा है। इसमें निजी प्रतिष्ठानों, व्यापारियों और यहां तक कि केंद्र सरकार के अंतर्गत आने वाले विभागों सहित अन्य सरकारी विभागों के भी भाग लेने की उम्मीद है। आदेश में कहा गया है कि छात्रों से खुले मैदान में राष्ट्रगान गाने के लिए इकट्ठा हो सकते हैं।

इससे पहले महाराष्ट्र के सांस्कृतिक मामलों के मंत्री सुधीर मुनगंटीवार ने को कहा था कि देश अमृत महोत्सव (स्वतंत्रता की 75 वीं वर्षगांठ) मना रहा है और इसलिए राज्य सरकार के सभी अधिकारियों को अगले साल 26 जनवरी तक कार्यालयों में फोन कॉल लगाते समय नमस्ते के बजाय वंदे मातरम कहना होगा।

हालांकि, इसके अगले दिन ही उन्हें यू-टर्न लेना पड़ा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के अधिकारियों के लिए फोन कॉल उठाते समय वंदे मातरम कहना अनिवार्य नहीं है। फोन कॉल के दौरान राष्ट्रवाद को दर्शाने वाले किसी भी समान शब्द का इस्तेमाल किया जा सकता है। इस मुद्दे पर विपक्षी दलों की आलोचना का सामना करने के बाद उनका यह बयान सामने आया।



Source link