Hamara Kasba I Hindi News I Bundelkhand News

श्री साईं मंदिर से लाखों का स्वर्ण मुकुट चोरी, दो पुजारियों व गार्ड को प्रसाद में खिलाया नशीला पदार्थ

ByNews Desk

Aug 8, 2022


ख़बर सुनें

महोबा जिले में थाना पनवाड़ी के निसवारा गांव स्थित श्री साईं मंदिर में भक्त बनकर आए बदमाशों ने प्रसाद में नशीला पदार्थ खिलाकर दो पुजारियों व गार्ड को अचेत कर दिया। इसके बाद आरोपी सोने का मुकुट चोरी कर ले गए। जिसकी कीमत लाखों रुपये बताई जा रही है। अचेत अवस्था में पुजारियों व गार्ड को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जहां वह कुछ बताने की स्थिति में नहीं हैं। निसवारा गांव में आठ साल पहले भव्य श्री साईं मंदिर का निर्माण कराया गया था। जहां प्रतिदिन पूजा-अर्चना के लिए भक्तों की भीड़ जुटती है। मंदिर में रात 8:40 बजे आरती के बाद मुकुट उतारकर कमरे में रख दिया जाता है और शयन के कपड़े पहना दिए जाते हैं। शनिवार रात करीब नौ बजे कुछ भक्त मंदिर पहुंचे और प्रसाद चढ़ाने के बाद दोनों पुजारियों व गार्ड को प्रसाद खिलाया।

जिसके बाद तीनों अचेत हो गए। तब आरोपी कमरे में रखा सोने का मुकुट चोरी कर फरार हो गए। रविवार सुबह जब माली इश्वरदास मंदिर पहुंचा तो गार्ड डालचंद्र मंदिर के बाहर अचेत पड़ा था जबकि एक पुजारी दीपक गंगेले परिसर में और दूसरा पुजारी शिवकुमार मिश्रा बाथरूम में अचेत अवस्था में पड़े मिले। घटना की सूचना तत्काल पड़ोसी स्कूल के प्रधानाचार्य को दी गई। तब तीनों को स्कूली बस से सीएचसी पनवाड़ी पहुंचाया गया। जहां से डॉक्टर ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया। वहां तीनों का उपचार चल रहा है। सूचना पर पुलिस ने घटनास्थल पहुंच जांच की। फिलहाल पुजारियों के होश में आने के बाद ही चोरी की सही स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।

विस्तार

महोबा जिले में थाना पनवाड़ी के निसवारा गांव स्थित श्री साईं मंदिर में भक्त बनकर आए बदमाशों ने प्रसाद में नशीला पदार्थ खिलाकर दो पुजारियों व गार्ड को अचेत कर दिया। इसके बाद आरोपी सोने का मुकुट चोरी कर ले गए। जिसकी कीमत लाखों रुपये बताई जा रही है। अचेत अवस्था में पुजारियों व गार्ड को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

जहां वह कुछ बताने की स्थिति में नहीं हैं। निसवारा गांव में आठ साल पहले भव्य श्री साईं मंदिर का निर्माण कराया गया था। जहां प्रतिदिन पूजा-अर्चना के लिए भक्तों की भीड़ जुटती है। मंदिर में रात 8:40 बजे आरती के बाद मुकुट उतारकर कमरे में रख दिया जाता है और शयन के कपड़े पहना दिए जाते हैं। शनिवार रात करीब नौ बजे कुछ भक्त मंदिर पहुंचे और प्रसाद चढ़ाने के बाद दोनों पुजारियों व गार्ड को प्रसाद खिलाया।



Source link