Hamara Kasba I Hindi News I Bundelkhand News

नीतीश ने पेश किया सरकार बनाने का दावा, तेजस्वी बोले- हम चाचा-भतीजा हैं, होती रहती है लड़ाई

ByNews Desk

Aug 9, 2022


ख़बर सुनें

आज बिहार ने सियासी उठापटक का एक और दौर देखा। नीतीश कुमार ने सभी कयासों पर मुहर लगाते हुए आज एनडीए से नाता तोड़ने का एलान करते हुए सीएम पद से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद उन्होंने राजद नेता तेजस्वी यादव के साथ राज्यपाल से मुलाकात कर नई सरकार बनाने का दावा पेश किया। पत्रकारों से बातचीत में नीतीश ने कहा कि हमें 164 विधायकों का समर्थन हासिल है। राज्यपाल को 164 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी सौंपी है। सब मिलकर काम करेंगे और बिहार को आगे बढ़ाएंगे। समाज में विवाद पैदा करने की कोशिश की गई थी वो हमें अच्छा नहीं लगा था। कई तरह की बातें की रही थी वो हमें अच्छा नहीं लग रहा था। 

तेजस्वी यादव बोले- भाजपा जिसके साथ रहती है, उसे खत्म करती है
तेजस्वी यादव ने कहा- भाजपा जहां रहती है, जिसके साथ रहती है, उसे खत्म करने में लगी रहती है। पंजाब देखिए, महाराष्ट्र देखिए। पूरे उत्तर भारत में अब भाजपा का कोई बड़ा सहयोगी नहीं रहा। देश में अराजकता का माहौल बन रहा है, सांप्रदायिकता फल-फूल रही है, सामाजिक न्याय प्रभावित हो रहा है। अर्थव्यवस्था देख लीजिए, देश की सुरक्षा देख लीजिए। आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है, आज ही के दिन भारत छोड़ो आंदोलन छिड़ा था। आज बिहार ने देश को दिशा दिखाने का काम किया है कि जो जनता के लिए लड़ता है, जनता उसे स्वीकार करती है। जनता विकल्प चाहती है। 

जेपी नड्डा को निशाने पर लिया 
बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिला। कोई पैकेज नहीं मिला। नीतीश जी ने पटना यूनिवर्सिटी की भी बात की जो नहीं मानी गई। जेपी नड्डा यहां आकर कहते हैं कि क्षेत्रीय पार्टियों को समाप्त करेंगे। यानि विपक्ष और लोकतंत्र को समाप्त करेंगे। हमारा दायित्व है संविधान को बचाना। भाजपा का एक ही काम है, डराओ। हम नीतीश जी को धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने फैसले लेने का काम किया है। आज पांच दलों की बैठक हुई और हमें फैसला लेने की जिम्मेदारी दी गई थी। नीतीश जी ने बिहार और लोकतंत्र के हित में फैसला लिया है।

तेजस्वी ने कहा, हम लोग समाजवादी हैं, लालू जी ने आडवाणी का रथ रोका था। हमारे पुरखों की विरासत कोई और लेकर जाएगा क्या? हम लोग चाचा-भतीजा हैं, लड़े भी हैं, आरोप भी लगाए हैं। हम लोग समाजवादी लोग हैं। हर भाई के बीच लड़ाई होती है। पीएम उम्मीदवारी का सवाल हम मुख्यमंत्रीजी पर छोड़ते हैं। सबसे अनुभवी, परिपक्व मुख्यमंत्री कोई है तो वो नीतीश जी हैं।  

विस्तार

आज बिहार ने सियासी उठापटक का एक और दौर देखा। नीतीश कुमार ने सभी कयासों पर मुहर लगाते हुए आज एनडीए से नाता तोड़ने का एलान करते हुए सीएम पद से इस्तीफा दे दिया। इसके बाद उन्होंने राजद नेता तेजस्वी यादव के साथ राज्यपाल से मुलाकात कर नई सरकार बनाने का दावा पेश किया। पत्रकारों से बातचीत में नीतीश ने कहा कि हमें 164 विधायकों का समर्थन हासिल है। राज्यपाल को 164 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी सौंपी है। सब मिलकर काम करेंगे और बिहार को आगे बढ़ाएंगे। समाज में विवाद पैदा करने की कोशिश की गई थी वो हमें अच्छा नहीं लगा था। कई तरह की बातें की रही थी वो हमें अच्छा नहीं लग रहा था। 

तेजस्वी यादव बोले- भाजपा जिसके साथ रहती है, उसे खत्म करती है

तेजस्वी यादव ने कहा- भाजपा जहां रहती है, जिसके साथ रहती है, उसे खत्म करने में लगी रहती है। पंजाब देखिए, महाराष्ट्र देखिए। पूरे उत्तर भारत में अब भाजपा का कोई बड़ा सहयोगी नहीं रहा। देश में अराजकता का माहौल बन रहा है, सांप्रदायिकता फल-फूल रही है, सामाजिक न्याय प्रभावित हो रहा है। अर्थव्यवस्था देख लीजिए, देश की सुरक्षा देख लीजिए। आज का दिन बहुत महत्वपूर्ण है, आज ही के दिन भारत छोड़ो आंदोलन छिड़ा था। आज बिहार ने देश को दिशा दिखाने का काम किया है कि जो जनता के लिए लड़ता है, जनता उसे स्वीकार करती है। जनता विकल्प चाहती है। 

जेपी नड्डा को निशाने पर लिया 

बिहार को विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिला। कोई पैकेज नहीं मिला। नीतीश जी ने पटना यूनिवर्सिटी की भी बात की जो नहीं मानी गई। जेपी नड्डा यहां आकर कहते हैं कि क्षेत्रीय पार्टियों को समाप्त करेंगे। यानि विपक्ष और लोकतंत्र को समाप्त करेंगे। हमारा दायित्व है संविधान को बचाना। भाजपा का एक ही काम है, डराओ। हम नीतीश जी को धन्यवाद करते हैं कि उन्होंने फैसले लेने का काम किया है। आज पांच दलों की बैठक हुई और हमें फैसला लेने की जिम्मेदारी दी गई थी। नीतीश जी ने बिहार और लोकतंत्र के हित में फैसला लिया है।

तेजस्वी ने कहा, हम लोग समाजवादी हैं, लालू जी ने आडवाणी का रथ रोका था। हमारे पुरखों की विरासत कोई और लेकर जाएगा क्या? हम लोग चाचा-भतीजा हैं, लड़े भी हैं, आरोप भी लगाए हैं। हम लोग समाजवादी लोग हैं। हर भाई के बीच लड़ाई होती है। पीएम उम्मीदवारी का सवाल हम मुख्यमंत्रीजी पर छोड़ते हैं। सबसे अनुभवी, परिपक्व मुख्यमंत्री कोई है तो वो नीतीश जी हैं।  





Source link