इस बार अजेय रहीं सिंधु, नौ मैच खेले सभी जीते, 19 गेम में से सिर्फ एक में मिली हार, पढ़ें पूरा सफर


ख़बर सुनें

भारतीय बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। राष्ट्रमंडल खेलों में यह सिंधु का चौथा पदक है और महिला एकल में पहला स्वर्ण है। इससे पहले 2018 में उन्होंने रजत और 2014 में कांस्य पदक जीता था। 2018 में उन्होंने मिश्रित टीम में स्वर्ण पदक भी जीता था। उन्होंने इस टूर्नामेंट में बिना कोई मैच गंवाए स्वर्ण पदक जीता है। वह इससे पहले ओलंपिक में भी दो पदक जीत चुकी हैं। राष्ट्रमंडल खेल 2022 में पीवी सिंधु का प्रदर्शन शानदार रहा है। पहले भारत के लिए टीम मैच में उन्होंने अपना हर मुकाबला जीता। इसके बाद महिला एकल में भी उन्होंने सभी पांच मैच जीतकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। इस दौरान नौ मैचों में उन्होंने 19 गेम खेले और 18 में जीत हासिल की। 

महिला एकल में कैसा रहा सिंधु का प्रदर्शन

  • महिला एकल में सिंधु का पहला मुकाबला मालदीव की फतिमा अब्दुल रज्जाक के साथ था और सिंधु ने यह मुकाबला बड़ी आसानी से जीत लिया। उन्होंने पातिमा को 21-4, 21-11 के अंतर से मात दी और दूसरे दौर में पहुंच गईं। 
  • सिंधु का दूसरा मुकाबला युगांडा की हुसीना कुबुगाबे के साथ था और सिंधु ने यह मैच भी 21-10, 21-9 के अंतर से जीत लिया। इसी के साथ उन्होंने क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली। 
  • तीसरे मुकाबले में सिंधु का सामना मलेशिया की जिन वेई गोह के साथ था। इस मुकाबले में भी सिंधु ने 19-21, 21-14, 21-18 के अंतर से जीत हासिल की। कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में यह पहला मौका था, जब पीवी सिंधु कोई गेम हारीं। हालांकि, यह मैच भी जीतकर उन्होंने सेमीफाइनल में जगह बना ली। 
  • सेमीफाइनल में सिंधु का सामना जिया मिन येओ के साथ था और सिंधु ने यह मैच भी 21-19, 21-17 के अंतर से जीत लिया। इसी के साथ उन्होंने फाइनल में जगह बना ली और अपना पदक भी पक्का कर लिया। 
  • फाइनल मैच में सिंधु ने मलेशिया की मिशेल ली को 21-15, 21-13 से हराकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। राष्ट्रमंडल खेलों में महिला एकल में यह सिंधु का पहला स्वर्ण पदक है।

टीम इवेंट में कैसा रहा सिंधु का प्रदर्शन

  • भारतीय टीम के लिए सिंधु का पहला मैच 29 जुलाई को पाकिस्तान की महूर शहजाद के साथ था। सिंधु ने इस मैच में एकतरफा जीत हासिल की और यह मुकाबला 21-7, 21-6 के अंतर से जीत लिया। भारतीय टीम ने भी यह मैच आसानी से जीता और पाकिस्तानी टीम को पीटकर अगले दौर में पहुंच गई। 
  • भारतीय टीम के लिए सिंधु ने दूसरा मुकाबला ऑस्ट्रेलिया की वेंडी चेन के खिलाफ खेला। इस मैच में भी सिंधु ने शानदार प्रदर्शन किया 21-10, 21-12 के अंतर मुकाबला जीतकर भारत को सेमीफाइनल में पहुंचा दिया। 
  • टीम इवेंट में सिंधु तीसरे मुकाबले में सिंगापुर की जिया मिन से भिड़ीं। यह मुकाबला भी सिंधु ने 21-11, 21-12 के अंतर से जीत लिया और भारतीय टीम भी मैच जीतकर फाइनल में पहुंच गई।
  • फाइनल में भारतीय टीम का सामना मलेशिया से था और सिंधु ने जिन वेई गोह को 22-20 21-17 के अंतर से हराया। इस प्रतियोगिता में पहली बार सिंधु को किसी खिलाड़ी ने चुनौती दी थी। हालांकि, भारत के बाकी खिलाड़ी हार गए और टीम इंडिया को रजत पदक के साथ संतोष करना पड़ा। सिंधु ने टीम इवेंट में भारत के लिए चार मैच में कुल आठ गेम खेले और सभी में जीत हासिल की।

पीवी सिंधु की उपलब्धियां
पीवी सिंधु ने 2016 ओलंपिक में रजत और 2020 ओलंपिक में कांस्य पदक जीता था। वहीं, विश्व चैंपियनशिप में वो छह पदक जीत चुकी हैं। उन्होंने 2019 में स्वर्ण, 2018 और 2017 में रजत और 2013-2014 में कांस्य पदक हासिल किया था। एशियन गेम्स में सिंधु ने 2018 में रजत और 2014 में महिला टीम के साथ कांस्य पदक जीता है। कॉमनवेल्थ में भी सिंधु के नाम एक रजत, एक कांस्य और टीम इवेंट में एक स्वर्ण पदक है। एशियन चैंपियनशिप में उन्होंने 2014 में कांस्य पदक जीता था। 

सिंधु एक बार बीडब्लूएफ वर्ल्ड टूर जीत चुकी हैं और एक बार उपविजेता रही हैं। इंडिया ओपन सुपर सीरीज में वो 2017 में चैंपियन बनी थीं और 2018 में उपविजेता रहीं। 2016 में उन्होंने चीन ओपन भी जीता। सिंधु 2017 में कोरिया ओपन सुपर सीरीज भी जीत चुकी हैं। 

विस्तार

भारतीय बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु ने राष्ट्रमंडल खेलों में स्वर्ण पदक जीतकर इतिहास रच दिया है। राष्ट्रमंडल खेलों में यह सिंधु का चौथा पदक है और महिला एकल में पहला स्वर्ण है। इससे पहले 2018 में उन्होंने रजत और 2014 में कांस्य पदक जीता था। 2018 में उन्होंने मिश्रित टीम में स्वर्ण पदक भी जीता था। उन्होंने इस टूर्नामेंट में बिना कोई मैच गंवाए स्वर्ण पदक जीता है। वह इससे पहले ओलंपिक में भी दो पदक जीत चुकी हैं। राष्ट्रमंडल खेल 2022 में पीवी सिंधु का प्रदर्शन शानदार रहा है। पहले भारत के लिए टीम मैच में उन्होंने अपना हर मुकाबला जीता। इसके बाद महिला एकल में भी उन्होंने सभी पांच मैच जीतकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। इस दौरान नौ मैचों में उन्होंने 19 गेम खेले और 18 में जीत हासिल की। 

महिला एकल में कैसा रहा सिंधु का प्रदर्शन

  • महिला एकल में सिंधु का पहला मुकाबला मालदीव की फतिमा अब्दुल रज्जाक के साथ था और सिंधु ने यह मुकाबला बड़ी आसानी से जीत लिया। उन्होंने पातिमा को 21-4, 21-11 के अंतर से मात दी और दूसरे दौर में पहुंच गईं। 
  • सिंधु का दूसरा मुकाबला युगांडा की हुसीना कुबुगाबे के साथ था और सिंधु ने यह मैच भी 21-10, 21-9 के अंतर से जीत लिया। इसी के साथ उन्होंने क्वार्टर फाइनल में जगह बना ली। 
  • तीसरे मुकाबले में सिंधु का सामना मलेशिया की जिन वेई गोह के साथ था। इस मुकाबले में भी सिंधु ने 19-21, 21-14, 21-18 के अंतर से जीत हासिल की। कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में यह पहला मौका था, जब पीवी सिंधु कोई गेम हारीं। हालांकि, यह मैच भी जीतकर उन्होंने सेमीफाइनल में जगह बना ली। 
  • सेमीफाइनल में सिंधु का सामना जिया मिन येओ के साथ था और सिंधु ने यह मैच भी 21-19, 21-17 के अंतर से जीत लिया। इसी के साथ उन्होंने फाइनल में जगह बना ली और अपना पदक भी पक्का कर लिया। 
  • फाइनल मैच में सिंधु ने मलेशिया की मिशेल ली को 21-15, 21-13 से हराकर स्वर्ण पदक अपने नाम किया। राष्ट्रमंडल खेलों में महिला एकल में यह सिंधु का पहला स्वर्ण पदक है।



Source link