विदेश मंत्री और पीएम का दिलचस्प किस्सा: जागे हो? टीवी देख रहे हो…जब आधी रात को मोदी ने लगाया जयशंकर को फोन


डॉ. एस जयशंकर

डॉ. एस जयशंकर
– फोटो : ANI

ख़बर सुनें

न्यूयॉर्क पहुंचे विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपने दिलचस्प किस्सों को साझा किया। ‘मोदी @ 20: ड्रीम्स मीट डिलीवरी’ पुस्तक पर चर्चा के दौरान उन्होंने कहा, आप पूछते हैं कि क्या प्रधानमंत्री मोदी बदलाव ला सकते हैं, लेकिन मैं कहता हूं पीएम मोदी खुद एक बदलाव का ही परिणाम हैं। उनके जैसा कोई व्यक्ति भारत का प्रधानमंत्री बन गया है, यह दिखाता है कि देश कितना बदल गया है। 

इस दौरान विदेश मंत्री ने पीएम मोदी के साथ यादगार किस्से को साझा किया। उन्होंने कहा, बात तब की है जब अफगानिस्तान पर तालिबान ने हमला किया था और भारतीय छात्रों को वहां से निकाले जाने के लिए अभियान चलाया जा रहा था। विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा, पीएम मोदी ने मुझे आधी रात को फोन लगाया और सीधे पूछा, जागे हो? मैंने हां में जवाब दिया। इसके बाद पीएम ने पूछा टीवी देख रहे हो क्या, वहां क्या हो रहा है? तो इसका जवाब में मैनें कहा कि मदद थोड़ी देर में पहुंच रही है।

 
जब जोर से बोले-सीधे मुझे बताना
विदेश मंत्री ने इस बातचीत को याद करते हुए आगे कहा कि पीएम ने कहा, जब मदद पहुंच जाए तो मुझे फोन कर देना। मैंने कहा, सर इसमें दो से तीन घंटे और लगेंगे। जब हो जाएगा तो मैं आपके यहां सूचित कर दूंगा। इसके बाद पीएम मोदी ने जोर से कहा, नहीं…,सीधे मुझे फोन करना। विदेश मंत्री ने कहा, किसी प्रधानमंत्री में यह एक विलक्षण गुण है।

इब्सा की दसवीं बैठक की विदेश मंत्री ने की मेजबानी
विदेश मंत्री एस जयशंकर ने इस दौरान इब्सा के त्रिपक्षीय मंत्री स्तरीय आयोग की दसवीं बैठक की मेजबानी की। उन्होंने इब्सा की प्रक्रिया की समीक्षा की और इसके कार्यों को भी सराहा। बैठक में ब्राजील के विदेश मंत्री कार्लोस फ्रांका और दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य मंत्री जोए फाहला भी शामिल हुए। 

इब्सा की ओर से जारी साझा बयान के अनुसार, मंत्रियों ने दुनियाभर में हो रहे आतंकवादी हमलों की निंदा की। उन्होंने आतंकवाद के सभी रूपों और कृत्यों की निंदा की, फिर चाहे ये कहीं भी और किसी के भी द्वारा किए गए हों। मंत्रियों ने आतंकी पनाहगाहों को खत्म करने की पहल के साथ आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता की पुष्टि की।

 

विस्तार

न्यूयॉर्क पहुंचे विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ अपने दिलचस्प किस्सों को साझा किया। ‘मोदी @ 20: ड्रीम्स मीट डिलीवरी’ पुस्तक पर चर्चा के दौरान उन्होंने कहा, आप पूछते हैं कि क्या प्रधानमंत्री मोदी बदलाव ला सकते हैं, लेकिन मैं कहता हूं पीएम मोदी खुद एक बदलाव का ही परिणाम हैं। उनके जैसा कोई व्यक्ति भारत का प्रधानमंत्री बन गया है, यह दिखाता है कि देश कितना बदल गया है। 

इस दौरान विदेश मंत्री ने पीएम मोदी के साथ यादगार किस्से को साझा किया। उन्होंने कहा, बात तब की है जब अफगानिस्तान पर तालिबान ने हमला किया था और भारतीय छात्रों को वहां से निकाले जाने के लिए अभियान चलाया जा रहा था। विदेश मंत्री जयशंकर ने कहा, पीएम मोदी ने मुझे आधी रात को फोन लगाया और सीधे पूछा, जागे हो? मैंने हां में जवाब दिया। इसके बाद पीएम ने पूछा टीवी देख रहे हो क्या, वहां क्या हो रहा है? तो इसका जवाब में मैनें कहा कि मदद थोड़ी देर में पहुंच रही है।

 

जब जोर से बोले-सीधे मुझे बताना

विदेश मंत्री ने इस बातचीत को याद करते हुए आगे कहा कि पीएम ने कहा, जब मदद पहुंच जाए तो मुझे फोन कर देना। मैंने कहा, सर इसमें दो से तीन घंटे और लगेंगे। जब हो जाएगा तो मैं आपके यहां सूचित कर दूंगा। इसके बाद पीएम मोदी ने जोर से कहा, नहीं…,सीधे मुझे फोन करना। विदेश मंत्री ने कहा, किसी प्रधानमंत्री में यह एक विलक्षण गुण है।

इब्सा की दसवीं बैठक की विदेश मंत्री ने की मेजबानी

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने इस दौरान इब्सा के त्रिपक्षीय मंत्री स्तरीय आयोग की दसवीं बैठक की मेजबानी की। उन्होंने इब्सा की प्रक्रिया की समीक्षा की और इसके कार्यों को भी सराहा। बैठक में ब्राजील के विदेश मंत्री कार्लोस फ्रांका और दक्षिण अफ्रीका के स्वास्थ्य मंत्री जोए फाहला भी शामिल हुए। 

इब्सा की ओर से जारी साझा बयान के अनुसार, मंत्रियों ने दुनियाभर में हो रहे आतंकवादी हमलों की निंदा की। उन्होंने आतंकवाद के सभी रूपों और कृत्यों की निंदा की, फिर चाहे ये कहीं भी और किसी के भी द्वारा किए गए हों। मंत्रियों ने आतंकी पनाहगाहों को खत्म करने की पहल के साथ आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में एकजुटता की पुष्टि की।

 





Source link