Hamara Kasba I Hindi News I Bundelkhand News

पंजाब के 69 तो हरियाणा के 63 फीसदी खिलाड़ियों ने जीते पदक, यूपी के 83 फीसदी खिलाड़ी खाली हाथ लौटे

ByNews Desk

Aug 9, 2022


ख़बर सुनें

राष्ट्रमंडल खेल 2022 का समापन हो चुका है। इस बार भारत को कुल 61 पदक मिले हैं। इनमें 22 स्वर्ण, 16 रजत और 23 कांस्य पदक शामिल हैं। 2018 राष्ट्रमंडल खेलों की तुलना में इस बार भारत ने पांच पदक कम जीते हैं, लेकिन इस बार शूटिंग को शामिल नहीं किया गया था। इसके बावजूद भारत ने शानदार प्रदर्शन किया है। इसमें पंजाब और हरियाणा के खिलाड़ियों का योगदान सबसे ज्यादा है। हालांकि, उत्तर प्रदेश और राजस्थान जैसे बड़े राज्यों के खिलाड़ियों ने निराश किया है। 

इस बार देश को मिलने वाले 61 पदकों में से 73 फीसदी पदक पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ के खिलाड़ियों ने दिलाए हैं। वहीं, उत्तर प्रदेश के 83 फीसदी खिलाड़ी खाली हाथ लौटे हैं। तेलंगाना और चंडीगढ़ के सभी खिलाड़ियों ने पदक जीते हैं। यहां हम बता रहे हैं कि किस राज्य के कितने खिलाड़ी राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा बने थे और उनमें से कितने फीसदी खिलाड़ियों ने पदक जीते हैं या पदक में अपना योगदान दिया है। भारत को 61 पदक दिलाने में कुल 107 खिलाड़ियों का योगदान है। 

राष्ट्रमंडल खेलों में हर राज्य के खिलाड़ियों का प्रदर्शन
राज्य खिलाड़ी पदक
हरियाणा 38 24
पंजाब 26 18
तमिलनाडु 17 4
दिल्ली 14 8
महाराष्ट्र 14 7
केरल 13 5
उत्तर प्रदेश 12 2
कर्नाटक 10 2
झारखंड 8 8
असम 7 1
मणिपुर 7 3
तेलंगाना 7 7
गुजरात  5 4
ओडिसा 5 2
आंध्र प्रदेश 4 1
राजस्थान  4 0
उत्तराखंड 4 3
पश्चिम बंगाल 4 1
चंडीगढ़ 3 3
अंडमान और निकोबार 2 0
हिमाचल प्रदेश 2 1
मध्यप्रदेश 2 1
मिजोरम 2 2
छत्तीसगढ़ 1 0
जम्मू और कश्मीर 1 0
त्रिपुरा 1 0

झारखंड, तेलंगाना और चंडीगढ़ का कमाल
झारखंड के सभी आठ खिलाड़ियों ने इस बार देश को पदक दिलाने में अपना योगदान दिया है। तेलंगाना के सात खिलाड़ी इस बार राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा बने थे और सभी ने पदक अपने नाम किए हैं। वहीं, चंडीगढ़ के भी सभी तीन और त्रिपुरा के दोनों खिलाड़ी पदक जीतने में सफल रहे हैं। हरियाणा ने सबसे ज्यादा 38 खिलाड़ी राष्ट्रमंडल खेलों में भेजे थे और 24 खिलाड़ी पदक के साथ वापस लौटे हैं। वहीं, पंजाब के 26 में से 18 खिलाड़ियों ने पदक जीते हैं। दिल्ली के 14 में से आठ और गुजरात के पांच में से चार खिलाड़ी पदक जीतने में सफल रहे हैं। 

राजस्थान, उत्तर प्रदेश के खिलाड़ी फेल
राजस्थान के चार खिलाड़ी राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा थे, लेकिन कोई खिलाड़ी देश को पदक दिलाने में कामयाब नहीं हुआ। उत्तर प्रदेश के 12 में से सिर्फ दो खिलाड़ी ही मेडल के साथ वापस लौटे हैं। अंडमान और निकोबार (दो खिलाड़ी) छत्तीसगढ़ (एक खिलाड़ी) जम्मू और कश्मीर (एक खिलाड़ी) और त्रिपुरा (एक खिलाड़ी) के खिलाड़ी भी देश को कोई पदक नहीं दिला पाए। तमिलनाडु के 17 में से 13 और केरल के 13 में से आठ खिलाड़ी पदक जीतने में नाकाम रहे हैं। 

विस्तार

राष्ट्रमंडल खेल 2022 का समापन हो चुका है। इस बार भारत को कुल 61 पदक मिले हैं। इनमें 22 स्वर्ण, 16 रजत और 23 कांस्य पदक शामिल हैं। 2018 राष्ट्रमंडल खेलों की तुलना में इस बार भारत ने पांच पदक कम जीते हैं, लेकिन इस बार शूटिंग को शामिल नहीं किया गया था। इसके बावजूद भारत ने शानदार प्रदर्शन किया है। इसमें पंजाब और हरियाणा के खिलाड़ियों का योगदान सबसे ज्यादा है। हालांकि, उत्तर प्रदेश और राजस्थान जैसे बड़े राज्यों के खिलाड़ियों ने निराश किया है। 

इस बार देश को मिलने वाले 61 पदकों में से 73 फीसदी पदक पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ के खिलाड़ियों ने दिलाए हैं। वहीं, उत्तर प्रदेश के 83 फीसदी खिलाड़ी खाली हाथ लौटे हैं। तेलंगाना और चंडीगढ़ के सभी खिलाड़ियों ने पदक जीते हैं। यहां हम बता रहे हैं कि किस राज्य के कितने खिलाड़ी राष्ट्रमंडल खेलों का हिस्सा बने थे और उनमें से कितने फीसदी खिलाड़ियों ने पदक जीते हैं या पदक में अपना योगदान दिया है। भारत को 61 पदक दिलाने में कुल 107 खिलाड़ियों का योगदान है। 



Source link