2016 में पहली बार मिले थे नीरज और पाकिस्तान के अरशद, जानें कैसे शुरू हुई दोनों की दोस्ती


ख़बर सुनें

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में पाकिस्तान के अरशद नदीम ने 90 मीटर दूर भाला फेंककर स्वर्ण पदक जीता है। पहले इस प्रतियोगिता में भारत का स्वर्ण पदक जीतना तय माना जा रहा था, लेकिन कॉमनवेल्थ गेम्स की शुरुआत होने से 10 दिन पहले नीरज चोपड़ा चोटिल हो गए और वो इस प्रतियोगिता में भाग नहीं ले सके। इसके बाद नदीम ने रिकॉर्ड 90 मीटर भाला फेंक कर स्वर्ण पदक जीता। खास बात यह है की नीरज हमेशा ही नदीम से बेहतर प्रदर्शन करते आए हैं, लेकिन उन्होंने कभी भी 90 मीटर दूर भाला नहीं फेंका। अब नदीम ने उनके सामने नई चुनौती खड़ी कर दी है। 

नीरज चोपड़ा और अरशद नदीम की दोस्ती के किस्से भी काफी लोकप्रिय हैं। यहां हम बता रहे हैं कि दोनों दोस्ती कैसे शुरू हुई और खेल के मैदान में एक दूसरे के खिलाफ होने के बावजूद दोनों अच्छे दोस्त कैसे हैं। 
2016 में शुरू हुई शुरुआत
साल 2016 में 19 साल के अरशद नदीम बस के जरिए लाहौर से अमृतसर आए थे। उन्हें गुवाहाटी जाना था, जहां दक्षिण एशियाई खेलों का आयोजन हो रहा था। यहीं, नीरज और नदीम पहली बार मिले थे। इस प्रतियोगिता में नीरज चोपड़ा ने 82.23 मीटर दूर भाला फेंक स्वर्ण पदक अपने नाम किया था। वहीं, नदीम ने 78.33 मीटर दूर भाला फेंका था और कांस्य पदक जीते थे। इस प्रतियोगिता के बाद नदीम ने कहा था “यह एक यादगार यात्रा थी। हम अमृतसर से लाहौर बस के जरिए आए। आप लोग बड़ी खातिर और इज्जत करते हो। मैं फिर से भारत में खेलना चाहूंगा।”

इसके बाद नीरज और नदीम का मुकाबला वियतनाम में एशियन जूनियर चैंपियनशिप में था। यहां नीरज ने 77.60 मीटर दूर भाला फेंक रजत पदक जीता और 73.40 मीटर दूर भाला फेंकने वाले नदीम को कांस्य के साथ संतोष करना पड़ा। विश्व अंडर-20 चैंपियनशिप में भी नीरज ने रिकॉर्ड 86.48 मीटर दूर भाला फेंका और स्वर्ण पदक जीते। वहीं, नदीम ने 67.17 मीटर की दूरी हासिल की और 15वें स्थान पर रह गए। इस दौरान नीरज ने 10 प्रतियोगिताओं में भाग लिया और दो बार 80 मीटर की दूरी तय करते हुए अपनी अलग पहचान बनाई। वहीं, नदीम सिर्फ तीन प्रतियोगिताओं में भाग ले सके और कुछ खास नहीं कर पाए। 
टोक्यो ओलंपिक में विवादों में भी आए
टोक्यो ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीतने वाले नीरज चोपड़ा ने बताया था कि उनके थ्रो से ठीक पहले उन्हें अपना भाला नहीं मिल रहा था और ढूंढ़ने पर वह पाकिस्तान के नदीम के पास मिला था। इसके बाद सोशल मीडिया पर नदीम को जमकर ट्रोल किया जाने लगा। इसके बाद  नीरज ने वीडियो जारी कर कहा कि नदीम को इसके लिए ट्रोल न किया जाए। उन्होंने नफरत फैलाने वाले लोगों को जमकर फटकार लगाई थी। इसके बाद से कई बार दोनों की दोस्ती सामने आ चुकी है। 

अब नदीम ने 90 मीटर की दूरी तय कर नीरज के सामने नई चुनौती पेश की है। नीरज अब तक नदीम से बेहतर रहे हैं और अब देखना होगा कि जब दोनों साथ में किसी प्रतियोगिता में भाग लेते हैं तो कौन बाजी मारता है।

विस्तार

कॉमनवेल्थ गेम्स 2022 में पाकिस्तान के अरशद नदीम ने 90 मीटर दूर भाला फेंककर स्वर्ण पदक जीता है। पहले इस प्रतियोगिता में भारत का स्वर्ण पदक जीतना तय माना जा रहा था, लेकिन कॉमनवेल्थ गेम्स की शुरुआत होने से 10 दिन पहले नीरज चोपड़ा चोटिल हो गए और वो इस प्रतियोगिता में भाग नहीं ले सके। इसके बाद नदीम ने रिकॉर्ड 90 मीटर भाला फेंक कर स्वर्ण पदक जीता। खास बात यह है की नीरज हमेशा ही नदीम से बेहतर प्रदर्शन करते आए हैं, लेकिन उन्होंने कभी भी 90 मीटर दूर भाला नहीं फेंका। अब नदीम ने उनके सामने नई चुनौती खड़ी कर दी है। 

नीरज चोपड़ा और अरशद नदीम की दोस्ती के किस्से भी काफी लोकप्रिय हैं। यहां हम बता रहे हैं कि दोनों दोस्ती कैसे शुरू हुई और खेल के मैदान में एक दूसरे के खिलाफ होने के बावजूद दोनों अच्छे दोस्त कैसे हैं। 



Source link