टाटा स्टील में छह सहायक कंपनियों का होगा विलय, बोर्ड ने दी मंजूरी


Tata Steel

Tata Steel
– फोटो : ANI (File)

ख़बर सुनें

देश के प्रतिष्ठित टाटा ग्रुप की इस्पात कंपनी टाटा स्टील अपनी छह सहायक कंपनियों का खुद में विलय करेगी। शुक्रवार को कंपनी की ओर से जारी एक बयान में इस बात की जानकारी दी गई है। कंपनी की ओर से बयान में बताया गया है कि इससे जुड़े एक प्रस्ताव को कंपनी के बोर्ड ने गुरुवार को मंजूरी दे दी है। बयान में यह भी कहा गया है कि टाटा स्टील के निदेशक मंडल ने छह सहायक कंपनियों के टाटा स्टील में प्रस्तावित विलय की योजनाओं पर विचार करने के बाद इसे हरी झंडी दिखा दी है।

इन छह कंपनियों का टाटा स्टील में होगा विलय

टाटा स्टील की जिन सब्सिडियरी कंपनियों का विलय होगा वे ‘टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स लिमिटेड’, ‘द टिनप्लेट कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड’, ‘टाटा मेटालिक्स लिमिटेड’, ‘द इंडियन स्टील एंड वायर प्रोडक्ट्स लिमिटेड’ ‘टाटा स्टील माइनिंग लिमिटेड’ और ‘एसएंडटी माइनिंग कंपनी लिमिटेड’ हैं। ।

विलय होने वाली सहायक कंपनियों में दो टाटा स्टील के पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनियां हैं

बता दें कि ‘टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स लिमिटेड’ में टाटा स्टील की 74.91 प्रतिशत हिस्सेदारी है। इसके अलावा उसकी ‘द टिनप्लेट कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड’ में 74.96 प्रतिशत, ‘टाटा मेटालिक्स लिमिटेड’ में 60.03 प्रतिशत और ‘द इंडियन स्टील एंड वायर प्रोडक्ट्स लिमिटेड’ में 95.01 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जबकि ‘टाटा स्टील माइनिंग लिमिटेड’ और ‘एसएंडटी माइनिंग कंपनी लिमिटेड’ उसके पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनियां है।

इसके साथ ही कंपनी के बोर्ड ने टाटा स्टील की सहयोगी कंपनी ‘टीआरएफ लिमिटेड’ (34.11 प्रतिशत हिस्सेदारी)  के टाटा स्टील लिमिटेड में विलय को भी मंजूरी दे दी है।

विस्तार

देश के प्रतिष्ठित टाटा ग्रुप की इस्पात कंपनी टाटा स्टील अपनी छह सहायक कंपनियों का खुद में विलय करेगी। शुक्रवार को कंपनी की ओर से जारी एक बयान में इस बात की जानकारी दी गई है। कंपनी की ओर से बयान में बताया गया है कि इससे जुड़े एक प्रस्ताव को कंपनी के बोर्ड ने गुरुवार को मंजूरी दे दी है। बयान में यह भी कहा गया है कि टाटा स्टील के निदेशक मंडल ने छह सहायक कंपनियों के टाटा स्टील में प्रस्तावित विलय की योजनाओं पर विचार करने के बाद इसे हरी झंडी दिखा दी है।

इन छह कंपनियों का टाटा स्टील में होगा विलय

टाटा स्टील की जिन सब्सिडियरी कंपनियों का विलय होगा वे ‘टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स लिमिटेड’, ‘द टिनप्लेट कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड’, ‘टाटा मेटालिक्स लिमिटेड’, ‘द इंडियन स्टील एंड वायर प्रोडक्ट्स लिमिटेड’ ‘टाटा स्टील माइनिंग लिमिटेड’ और ‘एसएंडटी माइनिंग कंपनी लिमिटेड’ हैं। ।

विलय होने वाली सहायक कंपनियों में दो टाटा स्टील के पूर्ण स्वामित्व वाली कंपनियां हैं

बता दें कि ‘टाटा स्टील लॉन्ग प्रोडक्ट्स लिमिटेड’ में टाटा स्टील की 74.91 प्रतिशत हिस्सेदारी है। इसके अलावा उसकी ‘द टिनप्लेट कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड’ में 74.96 प्रतिशत, ‘टाटा मेटालिक्स लिमिटेड’ में 60.03 प्रतिशत और ‘द इंडियन स्टील एंड वायर प्रोडक्ट्स लिमिटेड’ में 95.01 प्रतिशत हिस्सेदारी है, जबकि ‘टाटा स्टील माइनिंग लिमिटेड’ और ‘एसएंडटी माइनिंग कंपनी लिमिटेड’ उसके पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनियां है।

इसके साथ ही कंपनी के बोर्ड ने टाटा स्टील की सहयोगी कंपनी ‘टीआरएफ लिमिटेड’ (34.11 प्रतिशत हिस्सेदारी)  के टाटा स्टील लिमिटेड में विलय को भी मंजूरी दे दी है।



Source link