चोरी के आरोप में पकड़े गए युवक की जेल गेट पर मौत, ग्रामीणों ने पिटाई कर पुलिस को किया था सुपुर्द


ख़बर सुनें

गोरखपुर के पिपराइच थाने में चोरी के आरोप में पकड़े गए महाराजगंज पनियारा निवासी प्रमोद उर्फ सोनू सिंह की पुलिस अभिरक्षा में जेल गेट पर रविवार रात मौत हो गई। आनन-फानन पुलिस ने उसे जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। हालांकि, पुलिस का कहना है कि जेल में दाखिल कर दिया गया था और वहां के डॉक्टरों ने जिला अस्पताल रेफर किया था। 

उधर, आरोपी की मौत के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। जानकारी के मुताबिक, पिपराइच इलाके के एक स्कूल में चोरी हुई थी। घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। शनिवार को ग्रामीणों ने उसी चोरी के आरोप में प्रमोद को पकड़ लिया और उसकी पिटाई शुरू कर दी। बाद में पुलिस ने आरोपी प्रमोद को हिरासत में ले लिया और पूछताछ शुरू कर दी। 

पुलिस को उसके पास से महज एक फावड़ा बरामद हुआ, लेकिन सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने खुद की पीठ थपथपाई और 24 घंटे में घटना का पर्दाफाश करने का दावा करते हुए मुकदमा दर्ज कर लिया। पुलिस ने लिखा पढ़ी में रविवार सुबह चिउटहा नहर के पास प्रमोद की गिरफ्तारी दिखाते हुए न्यायालय में पेश किया। न्यायालय से उसका डोजियर भरने के लिए पुलिस डीसीआरबी लेकर गई। इसके बाद ऑटो से पुलिस उसे जेल दाखिल करने जा रही थी। 

रास्ते में उसने तबीयत खराब होने की जानकारी दी, जिसके बाद पुलिस ने जेल लेकर पहुंची पुलिस ने जेल में तैनात डॉक्टर को इसकी जानकारी दी। गेट पर ही सीने में दर्द की शिकायत की जांच डॉक्टर ने की तो उसका ब्लड प्रेशर काफी कम था। पुलिस के मुताबिक, जेल के डॉक्टर ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया, जहां ले जाते समय रास्ते में उसकी मौत हो गई। शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवा दिया गया।
न्यायालय से मेडिकल के बाद युवक को जेल लेकर पुलिस जा रही थी। जेल के करीबी उसने तबीयत खराब होने की जानकारी दी। आरोपी को जेल में दाखिल कर जेल डॉक्टर को सूचना दी गई। जेल के डॉक्टर ने जांच के बाद ब्लड प्रेशर कम बताते हुए जिला अस्पताल रेफर कर दिया। जिला अस्पताल ले जाते समय रास्ते में उसकी मौत हो गई। पोस्टमार्टम के बाद मौत की वजह स्पष्ट होगी। प्रथम दृष्टया हार्ट अटैक से मौत का मामला सामने आया है।
-मनोज अवस्थी एसपी नार्थ

विस्तार

गोरखपुर के पिपराइच थाने में चोरी के आरोप में पकड़े गए महाराजगंज पनियारा निवासी प्रमोद उर्फ सोनू सिंह की पुलिस अभिरक्षा में जेल गेट पर रविवार रात मौत हो गई। आनन-फानन पुलिस ने उसे जिला अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। हालांकि, पुलिस का कहना है कि जेल में दाखिल कर दिया गया था और वहां के डॉक्टरों ने जिला अस्पताल रेफर किया था। 

उधर, आरोपी की मौत के बाद पुलिस महकमे में हड़कंप मचा हुआ है। जानकारी के मुताबिक, पिपराइच इलाके के एक स्कूल में चोरी हुई थी। घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी। शनिवार को ग्रामीणों ने उसी चोरी के आरोप में प्रमोद को पकड़ लिया और उसकी पिटाई शुरू कर दी। बाद में पुलिस ने आरोपी प्रमोद को हिरासत में ले लिया और पूछताछ शुरू कर दी। 

पुलिस को उसके पास से महज एक फावड़ा बरामद हुआ, लेकिन सीसीटीवी फुटेज के आधार पर पुलिस ने खुद की पीठ थपथपाई और 24 घंटे में घटना का पर्दाफाश करने का दावा करते हुए मुकदमा दर्ज कर लिया। पुलिस ने लिखा पढ़ी में रविवार सुबह चिउटहा नहर के पास प्रमोद की गिरफ्तारी दिखाते हुए न्यायालय में पेश किया। न्यायालय से उसका डोजियर भरने के लिए पुलिस डीसीआरबी लेकर गई। इसके बाद ऑटो से पुलिस उसे जेल दाखिल करने जा रही थी। 

रास्ते में उसने तबीयत खराब होने की जानकारी दी, जिसके बाद पुलिस ने जेल लेकर पहुंची पुलिस ने जेल में तैनात डॉक्टर को इसकी जानकारी दी। गेट पर ही सीने में दर्द की शिकायत की जांच डॉक्टर ने की तो उसका ब्लड प्रेशर काफी कम था। पुलिस के मुताबिक, जेल के डॉक्टर ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया, जहां ले जाते समय रास्ते में उसकी मौत हो गई। शव को पोस्टमार्टम के लिए मोर्चरी में रखवा दिया गया।



Source link